सुप्रीम कोर्ट से मिली 'हरी झंडी' के बाद नए संसद भवन का निर्माण कार्य शुरू

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 10 दिसंबर को इस परियोजना की आधारशिला रखी थी. भवन का निर्माण टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड के तहत किया जा रहा है.

सुप्रीम कोर्ट से मिली 'हरी झंडी' के बाद नए संसद भवन का निर्माण कार्य शुरू

नए संसद भवन का निर्माण 2022 तक पूरा होने की उम्‍मीद है

खास बातें

  • सरकार को 2022 तक निर्माण पूरा होने की उम्‍मीद
  • 2022 का मानसूत्र सत्र नए भवन में ही आयोजित करने चाहती है
  • परियोजना पर 971 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान
नई दिल्‍ली:

New Parliament building: नए संसद भवन (New Parliament building)का निर्माण कार्य शुक्रवार को शुरू हो गया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने सरकार की महत्वाकांक्षी सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास योजना (Central vista project) के तहत एक महीने से अधिक समय पहले इस परियोजना की आधारिशला रखी थी. नया संसद भवन त्रिकोणीय आकार का होगा. साल 2022 में देश के 75वें स्वतंत्रता दिवस तक इसके तैयार होने की उम्मीद है. सरकार साल 2022 का मानसून सत्र नए भवन में आहूत करना चाहती है.एक अधिकारी ने कहा, ''नए संसद भवन का निर्माण कार्य शुरू हो गया है.''' प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 10 दिसंबर को इस परियोजना की आधारशिला रखी थी. भवन का निर्माण टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड के तहत किया जा रहा है. इस परियोजना पर 971 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है. 

सुप्रीम कोर्ट के ग्रीन सिग्नल से नए संसद भवन का रास्ता साफ, जानें क्या है सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट?

इस सप्ताह की शुरुआत में 14 सदस्यीय धरोहर समिति ने नए संसद भवन के निर्माण को मंजूरी दे दी थी. इसके अलावा उसने सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना को भी हरी झंडी दी थी. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने निर्माण कार्य शुरू करने से पहले केन्द्र को समिति तथा अन्य संबंधित प्राधिकरणों की मंजूरी लेने का आदेश दिया था. निर्माण कार्य पहले इसलिये शुरू नहीं हो सका था क्योंकि सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को आश्वासन दिया था कि जब तक अदालत मामले में लंबित याचिकाओं पर फैसला नहीं ले लेती, तब तक न तो निर्माण और न ही विध्वंस कार्य शुरू किया जाएगा.

नए संसद भवन को लेकर दिग्विजय सिंह के साथ उलझे हरदीप पुरी, बोले- 'आपने होमवर्क किया होता तो..'

टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड ने कहा कि निर्माण कार्य शुरू होने में 35 दिन की देरी के बावजूद उसे विश्वास है कि तय समय पर इस परियोजना को पूरा कर लिया जाएगा.टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड के उपाध्यक्ष तथा वाणिज्यिक इकाई के प्रमुख संदीप नवलखे ने कहा, ''हम कुशल कार्यबल तथा परियोजना का खाका तैयार कर पहले ही आगे बढ़ने के लिये तैयार थे.''' नए भवन का निर्माण मौजूदा भवन के सामने किया जाएगा. पुराने संसद भवन का निर्माण 94 साल पहले लगभग 83 लाख रुपये में किया गया था. नए भवन के निर्माण के बाद पुराने भवन को संग्रहालय में तब्दील कर दिया जाएगा.नए संसद भवन में लोकसभा और राज्यसभा के कक्ष बड़े होंगे, जिसमें लोकसभा के लिये 888 जबकि राज्यसभा के लिये 384 सीटों की व्यवस्था होगी. संयुक्त सत्र बुलाने के लिये लोकसभा कक्ष में 1,272 सीटों की व्यवस्था होगी.


सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर विपक्ष - ''इतिहास में नाम लिखाने की कोशिश''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)