क्या कोविड संक्रमित मृत मरीज ऑर्गन डोनर बन सकता है? अंगदान में भारी कमी के कारण चर्चा तेज

राष्ट्रीय अंग और ऊतक प्रत्यारोपण संगठन (NOTTO) के गाइडलाइन के मुताबिक, कोविड संक्रमित मृत मरीज का अंगदान नहीं किया जा सकता, लेकिन कुछ मेडिकल रिव्यूज और कुछ डॉक्टरों की ओर से अब इस पर विचार किए जाने की बात कही जा रही है.

क्या कोविड संक्रमित मृत मरीज ऑर्गन डोनर बन सकता है? अंगदान में भारी कमी के कारण चर्चा तेज

देश में हर साल करीब 5 लाख लोग किसी ना किसी ऑर्गन के इंतजार में जान गंवा देते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुंबई:

क्या कोविड संक्रमित मृत मरीज अंगदाता बन सकता है? महामारी में अंग दान में भारी कमी के कारण ये चर्चा चल पड़ी है. फिलहाल गाइडलाइन में कोविड संक्रमित मरीजों को अंगदान के लिए फिट नहीं माना जाता. एक आंकड़ा कहता है कि देश में हर साल करीब पांच लाख लोग किसी ना किसी ऑर्गन के इंतजार में जान गंवा देते हैं. महामारी में ये इंतजार और लम्बा हुआ है. क्योंकि बीते दो सालों से अंगदान करने वालों की भारी कमी है. ऐसे में अब मांग होने लगी है कि कोविड की वजह से जिनकी मौत हुई है उनके अंगदान पर विचार किया जाए.

इसी मसले पर मुंबई के लायंस क्लब अस्पताल के डॉक्टर सुहास देसाई ने कहा कि, "ट्रांसप्लांट सर्जरी में 50 प्रतिशत गिरावट है. क्योंकि ट्रांसप्लांट के लिए ऑर्गन ही नहीं है. कोविड पॉजिटिव मृत मरीज के अंगदान पर सोचा जा सकता है, अगर वो वैक्सीनेटिड हो और उसमें संक्रमण का प्रमाण कम हो, बाकी दिक्कतों से देहांत हुआ तो ऐसे मरीजों के बारे में सोचा जा सकता है." वहीं, ग्लोबल अस्पताल के डॉक्टर हरीश चाफले का कहना है कि, "फिलहाल की गाइडलाइन में कोविड पॉजिटिव मरीज अंगदान कर सकते हैं? यानी ऑर्गन डोनेशन में कमी के कारण ये गाइडलाइन बदलेगा या नहीं, ये तो आने वाला समय ही बताएगा. लेकिन हां, हमारे पास ऐक्सिडेंट के बाद आने वाले ब्रेनडेड मरीज जो ऑर्गन डोनर होते हैं उनकी संख्या कम हुई है. इस समय ट्रांसप्लांट के लिए लंबी वेटिंग है."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


राष्ट्रीय अंग और ऊतक प्रत्यारोपण संगठन (NOTTO) के गाइडलाइन के मुताबिक, कोविड संक्रमित मृत मरीज का अंगदान नहीं किया जा सकता, लेकिन कुछ मेडिकल रिव्यूज और कुछ डॉक्टरों की ओर से अब इस पर विचार किए जाने की बात कही जा रही है. वैसे ज्यादातर एक्स्पर्ट्स इस पर बड़ी रिसर्च और स्टडी की मांग कर रहे हैं.