'पहले असम CM छोड़ें अपनी सुरक्षा': ‘कांग्रेसी संस्कृति' वाले बयान पर कांग्रेस नेता का पलटवार

सीएम हिमंत बिस्व सरमा ने व्यक्तिगत सुरक्षा अधिकारियों को ‘कांग्रेस की संस्कृति' करार देते हुए राज्य के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं से इसे छोड़ने का आह्वान किया था.

'पहले असम CM छोड़ें अपनी सुरक्षा': ‘कांग्रेसी संस्कृति' वाले बयान पर कांग्रेस नेता का पलटवार

असम के सीएम के बयान पर कांग्रेस ने साधा निशाना

गुवाहाटी:

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ( Himanta Biswa Sarma) के व्यक्तिगत सुरक्षा अधिकारियों ( Personal Security Officers) को लेकर दिए गए बयान पर कांग्रेस ने अपनी नाराजगी जताई है. दरअसल, सीएम हिमंत बिस्व सरमा ने व्यक्तिगत सुरक्षा अधिकारियों को ‘कांग्रेस की संस्कृति' करार देते हुए राज्य के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं से इसे छोड़ने का आह्वान किया था. मुख्यमंत्री ने दावा किया था कि राज्य में भाजपा के किसी भी नेता को जान का खतरा नहीं है क्योंकि भाजपा नेताओं ने किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया है.

वहीं इस मामले पर असम प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेन कुमार बोरा और पार्टी के राज्यसभा सांसद रिपुन बोरा ने मंगलवार को मुख्यमंत्री से कहा कि अगर उन्हें लगता है कि यह 'कांग्रेस की संस्कृति' है, तो वे अपनी सिक्योरिटी को सरेंडर कर दें.  असम कांग्रेस के अध्यक्ष भूपेन बोरा ने कहा, "अगर असम पुलिस दावा करती है कि राज्य शांति है और किसी व्यक्तिगत सुरक्षा की आवश्यकता नहीं है तो मुख्यमंत्री को राज्य में भारी सिक्योरिटी कवर नहीं लेना चाहिए. सरमा पहले अपना पीएसओ छोड़ दें. 

'हमें सुरक्षा के लिए PCO की जरूरत नहीं, यह कांग्रेस की संस्कृति...' : असम के CM का बयान


बता दें कि सरमा की अध्यक्षता में हाल ही में हुई एक बैठक में असम कैबिनेट ने विभिन्न राजनीतिक नेताओं के पीएसओ की पात्रता और आवश्यकता का आकलन करने के लिए एक समिति का गठन किया है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com