आर्यन खान ड्रग्स केस का 'पंच' पुलिस की गिरफ्त में, धोखाधड़ी के मामलों में था 'वांटेड'

किरण गोसावी के बॉडी गार्ड रहे प्रभाकर सैल द्वारा आर्यन खान का मामला 25 करोड़ में दबाने की बात सामने आने के बाद से गोसावी को गवाह बनाने को लेकर एनसीबी पर भी सवाल उठ रहे थे. उसके लखनऊ में सरेंडर करने की बात भी सामने आई थी.

मुंबई:

Aryan Khan Case: मुंबई क्रूज ड्रग्स पार्टी में रेड के दौरान आर्यन खान का हाथ पकड़कर ले जाने वाले और उसके साथ सेल्फी खिंचवाकर खबरों में आने वाले किरण गोसावी (Kiran gosavi ) अब पुणे पुलिस की गिरफ्त में हैं. पुणे पुलिस आयुक्त अमिताभ गुप्ता ने एनडीटीवी से इस बात की पुष्टि की है. पुणे पुलिस ने उसे नौकरी में ठगी के आरोप में पकड़ा है. गोसावी खुद को प्राइवेट डिटेक्टिव बताता है. 15 दिनों से पुलिस को उसकी तलाश थी. गोसावी पर विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी का आरोप है. किरण गोसावी की रेड के दौरान उपस्थिति को लेकर सवाल उठने के बाद एनसीबी ने कहा था कि किरण गोसावी उनका गवाह है. इसके बाद से ही किरण गोसावी फरार चल रहा था. किरण गोसावी के बॉडी गार्ड रहे प्रभाकर सैल द्वारा आर्यन खान का मामला 25 करोड़ में दबाने की बात सामने आने के बाद से गोसावी को गवाह बनाने को लेकर एनसीबी पर भी सवाल उठ रहे थे. इससे पहले खबर आई थी कि वह लखनऊ में सरेंडर करने की बात सामने आ रही थी. किरण गोसावी का कहना था कि वह पुणे में सुरक्षित नहीं है. इसके बाद आज पुणे पुलिस द्वारा ही उसे अरेस्ट करने की खबर सामने आई हैं.

किरण गोसावी ने गिरफ्तारी के बाद एक वीडियो में कहा कि प्रभाकर साइल अपने आरोपों में झूठ बोल रहे हैं. मैं बस इतना अनुरोध करना चाहता हूं कि उनकी प्रभाकर की सीडीआर रिपोर्ट जारी की जानी चाहिए, जो भी प्रस्ताव उन्हें मिले हैं, वे स्पष्ट हो जाएंगे. मेरी सीडीआर रिपोर्ट या चैट जारी हो, प्रभाकर साइल और उनके भाई की सीडीआर रिपोर्ट के साथ-साथ चैट भी जारी की जानी चाहिए, सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा. कम से कम एक मंत्री या महाराष्ट्र का कोई भी विपक्ष का नेता मेरे साथ खड़ा होना चाहिए. कम से कम उन्हें मुंबई पुलिस से अनुरोध करना चाहिए कि मैं क्या मांग रहा हूं (प्रभाकर सेल की सीडी-आर और चैट जारी करने के लिए). उनके  फोन चैट से सब साफ हो जाएगा. इन्होंने ही पैसे लिए हैं. ये और इसके भाई. धन्यवाद.


बता दें कि कुछ दिन पहले ही गवाब किरण गोसावी और समीर वानखेड़े की कुछ तस्वीरें सामने आई थीं. फोटोज में समीर वानखेड़े कुछ लोगों के बीच घिरे हुए दिख रहे थे. वह एक चेयर पर बैठे हैं. हर फोटो में किरण गोसावी और मनीष दिखाई पड़ रहे हैं. ये तस्वीरें पोर्ट की हैं. यानी किरण और मनीष क्रूज ड्रग रेड में पूरी तरह मौजूद थे. तस्वीरें एनसीबी के दफ्तर की हैं. किरण गोसावी और प्रभाकर साईल के बीच का व्हाटसऐप चैट भी सामने आया है जो कि 3 अक्टूबर का है, इसमें किरण गोसावी साइल को आदेश दे रहे हैं कि कहां जाना है, क्या करना है.  इतना ही नहीं गोसावी ने प्रभाकर से कहा कि डोर लॉक कर लो और चाभी खिड़की से बाहर फेंक दो. दरअसल,  NCB की हिरासत में मौजूदगी के दौरान गोसावी की आर्यन खान के साथ सेल्फी एनसीबी के गले की हड्डी बन गई है. एनसीपी के प्रवक्ता नवाब मलिक ने सवाल उठाया था कि जब ये आदमी NCB का नहीं है तो यहां क्या कर रहा है. उसे आर्यन का हाथ पकड़कर एनसीबी दफ़्तर ले जाने का अधिकार किसने दिया. नवाब मलिक ने ही ये बताया था कि आर्यन के साथ सेल्फी लेने वाला शख्स किरन गोसावी है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े और डीडीजी ज्ञानेश्वर सिंह ने दावा किया था कि वो उनका पंच गवाह है. कानून में स्वतंत्र गवाह का प्रावधान है. हालांकि आर्यन के साथ सेल्फी और उसका हाथ पकडकर ले जाने का अधिकार उसे किसने और कैसे दिया गया, इस सवाल का जवाब दोनों ने नहीं दिया था.