जिस एंबुलेंस से मुख्तार अंसारी को लाया गया था मोहाली, ढाबे पर लावारिस हालात में मिली

Ambulance found in an abandoned situation: गैंगस्टर से नेता बने मुख्तार अंसारी को मोहाली की अदालत ले जाने के लिए इस्तेमाल की गई एम्बुलेंस पंजाब के रूपनगर जिले में चंडीगढ़-नांगल राजमार्ग पर एक ढाबे के पास सड़क किनारे लावारिस हालत में मिली.

जिस एंबुलेंस से मुख्तार अंसारी को लाया गया था मोहाली, ढाबे पर लावारिस हालात में मिली

Mukhtar Ansari को एम्बुलेंस के जरिए रूपनगर जेल से मोहाली की एक अदालत में पेशी के लिए ले जाया गया था (फाइल फोटो)

चंडीगढ़ :

Ambulance found in an abandoned situation: गैंगस्टर से नेता बने मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) को मोहाली की अदालत ले जाने के लिए इस्तेमाल की गई एम्बुलेंस पंजाब के रूपनगर जिले में चंडीगढ़-नांगल राजमार्ग पर एक ढाबे के पास सड़क किनारे लावारिस हालत में मिली. पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी. पुलिस ने कहा कि उन्होंने एम्बुलेंस को कब्जे में ले लिया है.  रूपनगर के पुलिस उपाधीक्षक टी एस गिल ने फोन पर कहा, ‘‘ हमने एम्बुलेंस को अपने कब्जे में ले लिया है.'' पुलिस ने कहा कि उन्हें सूचना मिली थी कि उत्तर प्रदेश के पंजीकरण संख्या वाली एम्बुलेंस सड़क किनारे लावारिस हालत में खड़ी है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मुख्तार अंसारी को साल 2019 के कथित वसूली के एक मामले के सिलसिले में एम्बुलेंस के जरिए रूपनगर जेल से मोहाली की एक अदालत में पेशी के लिए ले जाया गया था. 

Read Also: मुख्तार अंसारी को पंजाब जेल से यूपी लाने की तैयारी, बांदा जेल में सुरक्षा के कड़े इंतजाम

बताते चलें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पंजाब पुलिस मुख्तार अंसारी को यूपी पुलिस को सौंपेगी. करीब दो साल से मुख्तार को पंजाब पुलिस वहां के एक रंगदारी मांगने के मामले में यूपी से पंजाब ले गई थी, तब से मुख्तार सेहत खराब होने के नाम पर पंजाब जेल में बंद है. इस मामले में लंबे समय से यूपी और पंजाब सरकार के बीच तनातनी चल रही है. इस बीच यूपी सरकार मुख्तार अंसारी को पंजाब से 13 बार लाने की कोशिश की लेकिन कामयाब नहीं हुई. 


Read Also: 8 अप्रैल तक ले लें मुख्तार अंसारी की हिरासत: पंजाब ने यूपी सरकार से कहा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


यूपी सरकार का कहना है कि मुख्तार पर यूपी के कई जिलों में बहुत सारे केस चल रहे हैं, जिनकी सुनवाई के लिए उनका यूपी जेल में होना बहुत जरूरी है. लेकिन कहते हैं कि मुख्तार को डर है कि यूपी आने पर पुलिस उसे मार सकती है, इसलिए वो यूपी नहीं आना चाहता है. मुख्तार के करीबी लोगों का तर्क है कि जब इस तरह के मामलों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई हो सकती है, फिर यूपी सरकार किस मकसद से उन्हें यहां लाना चाहती है. मुख्तार को रोपड़ से यूपी के बांदा जेल में शिफ्ट किया जाएगा. इसके लिए बांदा जेल में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं. जेल में मुख्तार को अलग बैरेक में रखा जाएगा, जिसपे विशेष सिक्योरिटी तैनात होगी.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)