यह ख़बर 09 फ़रवरी, 2013 को प्रकाशित हुई थी

फल कारोबार में कमीशन एजेंट का काम करता था अफजल

खास बातें

  • संसद पर हमले का दोषी अफजल गुरु दिल्ली विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातक था और वर्ष 2001 में जिस वक्त उसे संसद पर हमले के मामले में गिरफ्तार किया गया था, तब वह फल कारोबार में कमीशन एजेंट के तौर पर काम कर रहा था।
नई दिल्ली:

संसद पर हमले का दोषी अफजल गुरु दिल्ली विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातक था और वर्ष 2001 में जिस वक्त उसे संसद पर हमले के मामले में गिरफ्तार किया गया था, तब वह फल कारोबार में कमीशन एजेंट के तौर पर काम कर रहा था।

उत्तर कश्मीर के सोपोर का निवासी अफजल ट्रांसपोर्ट और लकड़ी का व्यवसाय करने वाले हबीबुल्ला गुरु का बेटा था। पिता की मौत के समय अफजल बहुत छोटा था।

अफजल को सुबह आठ बजे फांसी दी गई और तिहाड़ जेल परिसर में दफनाया गया। इस पूरी कार्रवाई को गुप्त रखा गया।

अफजल ने 1988 में अपना नाम एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए झेलम वैली मेडिकल कॉलेज में लिखाया था लेकिन पढ़ाई पूरी नहीं कर पाया।

दिल्ली में वह अपने रिश्ते के भाई शौकत गुरु के साथ रहता था। शौकत ने सिख धर्म की अफशां नवज्योत से शादी की थी जिसने बाद में इस्लाम अपना लिया था।

अफजल की पत्नी तबस्सुम ने अपने पति के लिए तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम से दया की अपील की थी। वह अब अपने इकलौते बेटे गालिब के साथ घाटी में रहती है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अफजल कुछ दिनों के लिए जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) में भी सक्रिय रहा। उसे जानने वाले लोगों के मुताबिक पढ़ाई के मामले में अफजल आगे रहता था और अन्य इतर गतिविधियों में भी सक्रिय रहता था।