विज्ञापन
Story ProgressBack

चोट लगने या कट जाने पर नहीं रुकता खून, हो सकते हैं हीमोफीलिया के लक्षण, जानें क्या है हीमोफीलिया, इसके कारण और लक्षण

ब्लड में मौजूद एक खास तरह का प्रोटीन ब्लड में क्लॉट करने में मदद करता है जिससे ब्लीडिंग रुकने में मदद मिलती है. कुछ लोगों में बॉडी में ब्लड क्लॉट  करने वाले प्रोटीन की कमी होती है. इसका कारण हीमोफीलिया नामक रेयर बीमारी हो सकती है.

Read Time: 4 mins
चोट लगने या कट जाने पर नहीं रुकता खून, हो सकते हैं हीमोफीलिया के लक्षण, जानें क्या है हीमोफीलिया, इसके कारण और लक्षण
जानिए हीमोफीलिया के लक्षण और कारण

What is Hemophilia: चोट लगने या किसी दुर्घटना के बाद अक्सर ब्लीडिंग शुरू हो जाती है. बहुत ज्यादा ब्लीडिंग से जान को खतरा हो सकता है. ऐसे समय में ब्लड में मौजूद एक खास तरह का प्रोटीन ब्लड में क्लॉट करने में मदद करता है जिससे ब्लीडिंग रुकने में मदद मिलती है. कुछ लोगों में बॉडी में ब्लड क्लॉट (blood-clotting) करने वाले प्रोटीन की कमी होती है. इसका कारण हीमोफीलिया (Hemophilia) नामक रेयर बीमारी हो सकती है. हीमोफीलिया के कारण ब्लड सामान्य तरीके से नहीं जमता है इससे चोट लगने या किसी तरह की सर्जरी के बाद ब्लीडिंग नहीं रुकने का खतरा होता है.

इंटरनल ब्लीडिंग के कारण ज्यादा नुकसान हो सकता है. हीमोफीलिया एक प्रकार का जेनेटिक डिसऑर्डर है. आइए जानते है हीमोफीलिया के लक्षण, कारण और इससे जुड़े खतरों के बारे में.

हीमोफीलिया के लक्षण (Symptoms of Hemophilia)

  • कटने या चोट लगने, सर्जरी, दांतों के उपचार के दौरान बहुत अधिक ब्लीडिंग
  • कई बड़ी या गहरी चोटें
  • वैक्सीनेशन के बाद अधिक ब्लीडिंग
  • जोड़ों में दर्द, सूजन या जकड़न
  • यूरीन और स्टूल में ब्लड
  • बगैर कारण नाक से ब्लीडिंग
  • नवजात में चिड़चिड़ापन
  • ब्रेन में ब्लीडिंग

गंभीर हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों के सिर पर हल्की सी चोट से भी इंटरनल ब्लीडिंग हो सकती है. ऐसे में सामने आ सकते हैं इस तरह के लक्षण..

  • बहुत तेज और लंबे समय तक सिरदर्द
  • बार-बार उल्टी होना
  • उनींदापन या सुस्ती
  • डबल विजन
  • अचानक कमजोरी या उलझन
  • दौरे

डॉक्टर से कब सलाह लें

अगर बच्चे के ब्रेन में ब्लीडिंग के लक्षण सामने आएं, ऐसी चोट जिसमें खून बहना बंद न हो, सूजे हुए जोड़ जो छूने में गर्म लगे और झुकने पर दर्द हो तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें.

Also Read: उम्र 10 साल, वजन 190 किलो, कैसे कम किया दुनिया के सबसे मोटे बच्चे ने 106 किलो वजन, जानें Weight-Loss Journey

हीमोफीलिया के कारण (Causes of Hemophilia)

ब्लीडिंग रोकने के लिए ब्लड सेल्स जमा होकर क्लॉट या थक्का बनाती है. यह क्लॉटिंग ब्लड में मौजूद एक खास प्रोटीन के कारण होती है जो प्लेटलेट्स सेल्स के साथ काम करते हैं. हीमोफीलिया से पीड़ित में क्लॉटिंग फैक्टर गायब होता है या बहुत कम होता है.

जन्मजात हीमोफीलिया

हीमोफीलिया आमतौर पर माता पिता से मिलता है. जन्मजात हीमोफीलिया को कम थक्के जमने वाले फैक्टर के आधार वर्गीकृत किया जाता है.

एक्वायर्ड हीमोफीलिया

कुछ लोगों में पारिवारिक इतिहास न होने पर भी हीमोफीलिया विकसित हो जाता है. इसे एक्वायर्ड हीमोफीलिया कहा जाता है. एक्वायर्ड हीमोफीलिया में व्यक्ति का इम्यून सिस्टम ब्लड क्लॉटिंग फैक्टर पर हमला करती है. यह इन स्थितियों में हो सकती है

  • प्रेगनेंसी
  • ऑटो इम्यून कंडीशन
  • कैंसर
  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस
  • दवा का रिएक्शन

हीमोफीलिया इनहेरिटेंस

हीमोफीलिया के सबसे आम प्रकारों में दोषपूर्ण जीन एक्स क्रोमोजोम होता है. हर व्यक्ति में दो लिंग क्रोमोजोम होते हैं, ये माता पिता से एक एक मिलते है. महिलाओं को एक एक्स क्रोमोसोम मां से और एक एक्स क्रोमोसोम पिता से विरासत में मिलता है. पुरुषों को एक एक्स क्रोमोसोम मां और एक वाई क्रोमोसोम पिता से मिलता है. इसका मतलब यह है कि हीमोफीलिया अधिकतर लड़कों में होता है और मां के किसी एक जीन के माध्यम से मां से बेटे में स्थानांतरित हो जाता है. दोषपूर्ण जीन वाली महिलाएं वाहक होती हैं जिनमें हीमोफीलिया के कोई लक्षण नहीं होते हैं.

हीमोफीलिया से खतरा जोखिम (Risk factors of Hemophilia)

  • डीप इंटरनल ब्लीडिंग
  • गले या गर्दन में खून ब्लीडिंग
  • जोड़ों को नुकसान
  • इंफेक्शन
  • क्लॉटिंग फैक्टर के उपचार से रिएक्शन

क्या Mango बढ़ाता है Sugar | Sawaal India Ka

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बाल झड़ने से गंजी होने लगी है खोपड़ी, तो बस कर लीजिए ये एक काम, 15 दिन में दिखने लगेगा असर
चोट लगने या कट जाने पर नहीं रुकता खून, हो सकते हैं हीमोफीलिया के लक्षण, जानें क्या है हीमोफीलिया, इसके कारण और लक्षण
Explainer: 31 मई से 1 जून की शाम तक ध्यान में लीन रहेंगे पीएम, जानें क्या है ध्यान की ताकत? ध्यान का महत्व और ध्यान कैसे करें
Next Article
Explainer: 31 मई से 1 जून की शाम तक ध्यान में लीन रहेंगे पीएम, जानें क्या है ध्यान की ताकत? ध्यान का महत्व और ध्यान कैसे करें
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;