Mauni Amavasya 2021: मौनी अमावस्या पर श्रद्धालुओं ने गंगा में लगाई आस्था की डुबकी, जानिए इस दिन स्नान का महत्व

Mauni Amavasya 2021: आज मौनी अमावस्या (Mauni Amavasya) है.  माघ महीने की अमावस्या को मौनी अमावस्या कहा जाता है.

Mauni Amavasya 2021: मौनी अमावस्या पर श्रद्धालुओं ने गंगा में लगाई आस्था की डुबकी, जानिए इस दिन स्नान का महत्व

Mauni Amavasya 2021: मौनी अमावस्या पर श्रद्धालुओं ने गंगा में लगाई आस्था की डुबकी.

नई दिल्ली:

Mauni Amavasya 2021: आज मौनी अमावस्या (Mauni Amavasya) है.  माघ महीने की अमावस्या को मौनी अमावस्या कहा जाता है. माना जाता है कि आज के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने से पुण्य मिलता है. मौनी अमावस्या के पवित्र मौके पर हरिद्वार में चल रहे कुंभ मेले में आज श्रद्धालु बड़ी संख्या में गंगा नदी में डुबकी लगाने पहुंचे.

कड़ाके की ठंड होने के बावजूद भी श्रद्धालुओं ने हरकी पैड़ी और अन्य घाटों पर आस्था की पावन डुबकी लगाई. हालांकि, इस बार गंगा का पानी थोड़ा मटमैला दिखा, जिसकी वजह से श्रद्धालु थोड़े उदास दिखे, लेकिन बावजूद इसके बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने सूर्योदय से पहले गंगा घाट पहुंचकर आस्था की डुबकी लगाई.

बता दें कि सरकार की तरफ से औपचारिक तौर पर अभी कुंभ की शुरुआत नहीं हुई है. लेकिन मौनी अमावस्या पर श्रद्धालु हर साल यहां स्नान के लिए बड़ी संख्या में आते हैं और कुंभ का समय होने के चलते यह दिन श्रद्धालुओं के लिए बेहद खास पवित्र दिन बन गया है.

मौनी अमावस्या 2021 का शुभ मुहूर्त

साल 2021 में मौनी अमावस्या 11 फरवरी बृहस्पतिवार (Mauni Amavasya, 11 February, Thursday ) को है.

मौनी अमावस्या शुभ मुहूर्त शुरू - 10 फरवरी रात 01 बजकर 08 मिनट से

मौनी अमावस्या शुभ मुहूर्त खत्म - 11 फरवरी रात 12 बजकर 35 मिनट तक


मौनी अमावस्या का महत्व

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


माघ माह की इस अमावस्या में गंगा स्नान बहुत महत्व है. मान्यता है कि इस दिन गंगा, यमुना और सरस्वती नदियों में देवताओं का निवास होता है. इसीलिए इस दिन प्रयागराज में मौजूद त्रिवेणी संगम में स्नान का महत्व बहुत बढ़ जाता है. खासकर कुंभ (Kumbh) के दौरान मौनी अमावस्या के दिन लाखों की संख्या में तीर्थयात्री आते हैं. इसके साथ ही यह भी मान्यता है कि पूरे मन से इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाए तो आयु लंबी होती है.