दिल्ली में ट्रैफिक का बुरा हाल, औसत गति सिर्फ़ 30 किलोमीटर प्रति घंटा

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरमेंट ने जून के महीने में दिल्ली में यातायात के अध्ययन में पाया है कि दिल्ली की सड़कों पर यतायात की औसत गति सिर्फ़ 30 किलोमीटर प्रति घंटा है.

दिल्ली में ट्रैफिक का बुरा हाल, औसत गति सिर्फ़ 30 किलोमीटर प्रति घंटा

दिल्ली में सड़कों पर लगने वाला जाम अब आम बात हो गई है

खास बातें

  • सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरमेंट का दिल्ली यातायात पर अध्ययन
  • शनिवार और रविवार को औसत गति 25 किलोमीटर प्रति घंटा
  • दिल्ली में गाड़ियों की संख्या 1 करोड़ से भी अधिक पहुंच गई है
नई दिल्ली:

कहने को दिल्ली देश की राजधानी है, लेकिन यहां की सड़कें किसी जंजाल से कतई कम नहीं हैं. यहां मिनटों का सफर घंटों में पूरा होता है. बढ़ती भीड़भाड़ और सघन रास्तों के चलते दिल्ली में यतायात की रफ़्तार बेहद कम हो गई है. सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरमेंट ने जून के महीने में दिल्ली में यातायात के अध्ययन में पाया है कि दिल्ली की सड़कों पर यतायात की औसत गति सिर्फ़ 30 किलोमीटर प्रति घंटा है.

शनिवार और रविवार को यतायात की औसत गति गिरकर 25 किलोमीटर प्रति घंटा हो जाती है. दिल्ली में यतायात की गति देशभर के यतायात की औसत गति से 50 से 60 फीसदी कम है. दिल्ली में सबसे अधिक यातायात की औसत गति 44 किलोमीटर प्रति घंटा लुटियंस जोन में है.

चिंता की बात यह है कि दिल्ली में गाड़ियों की संख्या 1 करोड़ से भी अधिक पहुंच गई है. यहां हर रोज़ लगभग 500 नई गाड़ियां पंजीकृत हो रही हैं. रोजना सड़कों पर आ रहे नए वाहनों से भविष्य में दिल्ली की सड़कों पर यतायात व्यवस्था और ज्यादा खराब हो जाएगी.

सेंटर फ़ॉर साइंस एंड एनवायरमेंट की अनुमिता रॉय चौधरी की कहना है कि सरकार को लगता है कि नई सड़कें और फ्लाई ओवर बनाने से आराम होगा लेकिन, लोग अच्छी सड़कें देख कर और गाड़ियां ख़रीदेंगे. इसके अलावा दिल्ली में तो आसपास के शहरों से भी गाड़ियां आती हैं. कुछ समय पहले तक सबसे ज़्यादा ट्रैफिक मुंबई में हुआ करता था लेकिन अब मुंबई की जगह दिल्ली ने ले ली है. 


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com