जल्द शुरू होगा यह हरा-भरा एक्सप्रेस-वे, दिल्ली को ट्रैफिक जाम से दिलाएगा निजात

पीएम नरेंद्र मोदी 6 लेन वाले 135 किलोमीटर लंबे ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे का जल्द करेंगे उद्घाटन, 50 फीसदी तक दिल्ली का प्रदूषण घटेगा

जल्द शुरू होगा यह हरा-भरा एक्सप्रेस-वे, दिल्ली को ट्रैफिक जाम से दिलाएगा निजात

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  • ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे पर दूरी के हिसाब से लगेगा टोल
  • हरियाणा के कुंडली से गाजियाबाद, नोएडा होते हुए पलवल तक
  • इतिहास से कराएगा रूबरू, सौ फीसदी सोलर लाइटों से रोशनी
नई दिल्ली:

ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे दिल्ली को रेंगता ट्रेफिक और वाहनों से निकलने वाला जहरीले धुंए से काफी हद तक मुक्ति दिलाएगा. यह एक्सप्रेस-वे देश का पहला ऐसा एक्सप्रेस-वे होगा जिस पर वाहन चालकों से दूरी के हिसाब से टोल लिया जाएगा और कंट्रोल रूम के जरिए यातायात को नियंत्रित किया जाएगा.

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि अगले कुछ दिनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन करेंगे और उसी दिन प्रधानमंत्री मोदी एनएच 24 के दिल्ली-यूपी गेट सेक्शन का इंस्पेक्शन करेंगे.

6 लेन वाला 135 किलोमीटर लंबा ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे हरियाणा के कुंडली से शुरू होकर गाजियाबाद और नोएडा होते हुए पलवल से मिलेगा. इसके बनने से कुंडली से पलवल के बीच जाने-आने वालों को दिल्ली में एंट्री करने की जरूरत नहीं होगी. यही नहीं ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे के चालू होने पर कोलकाता से सीधे जालंधर,अमृतसर और जम्मू जाने-आने वाले वाहनों, खासकर ट्रकों को सबसे ज्यादा फायदा होगा.

यह भी पढ़ें : दिल्ली से मुंबई सिर्फ 10 घंटे में पहुंचा देगा यह एक्सप्रेस-वे, दूरी भी घट जाएगी

यह देश का पहला ऐसा एक्सप्रेस वे है जिसमें बगीचे बने हैं और वाहनों की स्पीड लिमिट 120 किमी प्रतिघंटा तय की गई है. यानि कि इस स्पीड से अगर आप चले तो 135 किमी की दूरी 70 मिनट में तय की जा सकती है. सरकार का मानना है कि इस एक्सप्रेस वे के चालू होने से 50 फीसदी तक दिल्ली का प्रदूषण और ट्रेफिक जाम की समस्या कम हो जाएगी.

VIDEO : एक्सप्रेस वे पर ड्रोन से निगरानी

ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस वे देश के इतिहास से भी आपको रूबरू कराएगा. दरअसल इस पूरे एक्सप्रेस वे में कुतुबमीनार, हवामहल, इंडिया गेट, लाल किला, चारमीनार, जलियांवाला बाग,अशोक चक्र,कीर्ति स्तंभ जैसे करीब तीन दर्जन स्मारकों की प्रतिकृतियां लगाई गई हैं. यह देश का पहला ऐसा ग्रीन एक्सप्रेस वे होगा जिसमें सौ फीसदी लाइटें सोलर इनर्जी से जलेंगी और एक्सप्रेस-वे पर लगे पौधों की सिंचाई डिप इरिगेशन से होगी.


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com