विज्ञापन
Story ProgressBack

बनेंगे इंडिया के कोच? धोनी संग चेन्नै को चमका दिया, कहानी क्रिकेट के सबसे चतुर कप्तान रहे फ्लेमिंग की

Stephen Fleming Facts, ऐसी खबरें आ रही है कि टीम इंडिया के नए कोच के लिए स्टीफन फ्लेमिंग का नाम सबसे आगे है. बीसीसीआई के खेमे में उनको लेकर काफी चर्चा हुई है.

Read Time: 5 mins
बनेंगे इंडिया के कोच? धोनी संग चेन्नै को चमका दिया, कहानी क्रिकेट के सबसे चतुर कप्तान रहे फ्लेमिंग की
Stephen Fleming can be India New Coach

Stephen Fleming: IPL में सीएसके (CSK)  की कोचिंग करने वाले न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान स्टीफन फ्लेमिंग भारत के अगले कोच (Team India New Coach) बन सकते हैं. दरअसल, स्टीफन फ्लेमिंग को राहुल द्रविड़ का संभावित उत्तराधिकारी माना जा रहा है. बता दें कि BCCI ने कोच के लिए आवेदन मंगाए हैं और उम्मीद की जा रही है कि फ्लेमिंग  भी अपना आवेदन टीम इंडिया के कोच के पद के लिए दे सकते हैं. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार प्लेमिंग के नाम की चर्चा बीसीसीआई खेमे में हुई है और उम्मीद भी जताई जा रही है कि आने वाले समय में टीम इंडिया का नया हेड कोच न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान स्टीफन फ्लेमिंग ही होंगे. बता दें कि धोनी के साथ मिलकर स्टीफन फ्लेमिंग ने सीएसके को चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभाई है. फ्लेमिंग को अपने करियर के दिनों में एक चतुर कप्तान भी माना जाता था.

ये भी पढ़े-  विवियन रिचर्ड्स ने की भविष्यवाणी, इस टीम को बताया T20 World Cup 2024 का विजेता

ये भी पढ़े-  शाहीन अफरीदी ने रचा इतिहास, इंटरनेशनल क्रिकेट में ऐसा धमाका कर विश्व क्रिकेट में मचाई खलबली

वहीं, कोच के तौर पर रणनीतिकार के रूप में न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान काफी सफल भी रहे हैं. बता दें कि साल 2009 में प्लेमिंग को पहली बार सीएसके का कोच बनाया गया था, तब से लेकर अबतक टीम के साथ जुड़े हुए हैं. स्टीफन फ्लेमिंग की कोचिंग में चेन्नई सुपर किंग्स अबतक 5 दफा आईपीएल का खिताब जीतने में सफलता हासिल कर ली है. 

स्टीफन फ्लेमिंग का कैसा रहा है करियर
Stephen Fleming ने न्यूजीलैंड के लिए अपना डेब्यू 1994 में भारत के खिलाफ टेस्ट के लिए किया था. अपने टेस्ट करियर में फ्लेमिंग  ने 111 मैच में 7172 रन बनाए हैं जिसमें 9 शतक और 46 अर्धशतक शामिल हैं. फ्लेमिंग ने तीन दोहरा शतक लगाने का कमाल भी कर दिखाया है. इसके अलावा न्यूजीलैंड के इस दिग्गज ने 1994 में भारत के खिलाफ खेलकर ही वनडे डेब्यू किया था. वनडे में 280 मैच में उन्होंने 8037 रन बनाए हैं, जिसमें 8 शतक और 49 अर्धशतक शामिल है. अपने करियर में प्लेमिंग ने 5 टी- 20 इंटरनेशनल मैच भी खेले हैं. इसके अलावा 10 आईपीएल मैच भी इस पूर्व दिग्गज ने खेले हैं. 

स्टीफन फ्लेमिंग
स्टीफन फ्लेमिंग का जन्म 1 अप्रैल 1973 को क्राइस्टचर्च, न्यूजीलैंड में हुआ था.

न्यूजीलैंड के सबसे युवा कप्तान
स्टीफन फ्लेमिंग न्यूजीलैंड टीम के सबसे युवा कप्तान बनने का गौरव हासिल किया था. 1996-97 में इंग्लैंड के न्यूजीलैंड दौरे में, उन्होंने ऑकलैंड में पहले टेस्ट में अपना पहला टेस्ट शतक बनाया. दौरे के तीसरे टेस्ट में, उन्हें न्यूजीलैंड का नया कप्तान बनाया गया था. उस समय उनकी उम्र  23 साल और 321 दिन थी.

चतुर कप्तान के तौर पर जाने गए
स्टीफन फ्लेमिंग को न्यूजीलैंड का सबसे चतुर कप्तान माना गया है. उनकी कप्तानी में कीवी टीम ने 80 टेस्ट मैच खेले जिसमें 28 में  टीम को जीत मिली तो वहीं, 27 टेस्ट मैचों में हार का सामना करना पड़ा. स्टीफन फ्लेमिंग न्यूजीलैंड के सबसे सफल कप्तान हैं. 

सर्वश्रेष्ठ वनडे पारी:
फ्लेमिंग की सर्वश्रेष्ठ वनडे पारी नाबाद 134 रन की पारी थी, जिससे न्यूजीलैंड ने 2003 क्रिकेट वर्ल्ड कप में मेजबान साउथ अफ्रीका को हराने में सफलता हासिल की थी.  बारिश से बाधित मैच में 39 ओवरों में 229 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए, फ्लेमिंग ने केवल 132 गेंदों में 134 रन बनाए, और न्यूजीलैंड ने  9 विकेट से जीत हासिल करने में सफल रही. 

साल का सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर (Cricketer of the year)
फ्लेमिंग ने 2003 में श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में करियर की सर्वोच्च 274 रन की नाबाद पारी खेलकर अपनी बेहतर बल्लेबाजी का नजारा पेश किया था, इसके बाद  उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ हैमिल्टन में 192 रन  की पारी खेली थी. फ्लेमिंग को साल 2004 में न्यूजीलैंड की ओर से साल का सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर  के तौर पर नामित किया गया था. 

2007 वर्ल्ड कप में बेहतरीन परफॉर्मेंस
साल 2007 के टी-20 वर्ल्ड कप में स्टीफन फ्लेमिंग ने शानदार परफॉर्मेंस किया था और कुल 39.22 की औसत के साथ 353 रन बनाए थे. उस वर्ल्ड कप में प्लेमिंग न्यूजीलैंड की ओर से दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज थे. सेमीफाइनल में फ्लेमिंग फ्लॉप रहे थे जिसके कारण श्रीलंका को जीत मिली थी और न्यूजीलैंड वर्ल्ड कप से बाहर हो गया था. 2007 वर्ल्ड कप के बाद फ्लेमिंग ने वनडे कप्तानी से इस्तीफा दे दिया था. 

टेस्ट कप्तानी का अंत:
सितंबर 2007 में, फ्लेमिंग ने घोषणा की कि वह न्यूजीलैंड टेस्ट खिलाड़ी के रूप में बने रहेंगे, लेकिन वनडे से संन्यास ले लेंगे. इसके अलावा  उन्होंने टेस्ट की कप्तानी से भी इस्तीफा दे दिया था. बाद में फ्लेमिंग के बाद  डैनियल विटोरी टेस्ट टीम के कप्तान बने थे. 

स्टीफन फ्लेमिंग  के साथ जुड़ा रहा है विवाद: गांजा पिने का लगा आरोप

1995 में, उन्हें होटल में दौरे के दौरान टीम के साथियों मैथ्यू हार्ट और डायोन नैश के साथ मारिजुआना धूम्रपान (गांजा) करते हुए पकड़ा गया था. जिसके बाद फ्लेमिंग ने आरोप को स्वीकार भी कर लिया था. तीनों पर 175 डॉलर का जुर्माना लगाया गया लेकिन फ्लेमिंग का मानना था कि इससे उन्हें प्रायोजन गंवाने के कारण हजारों डॉलर का नुकसान हुआ था.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
ENG vs WI: रिटायरमेंट के बाद जेम्स एंडरसन की फिर से हुई इंग्लैंड टीम में वापसी !
बनेंगे इंडिया के कोच? धोनी संग चेन्नै को चमका दिया, कहानी क्रिकेट के सबसे चतुर कप्तान रहे फ्लेमिंग की
Dale Steyn Bowling video viral in World Championship of Legends 2024 clean bowling Shahid Afridi with a flawless delivery
Next Article
It's Magic: 41 साल की उम्र में Dale Steyn ने उगली आग, करिश्माई गेंद से शाहिद अफरीदी को किया बोल्ड, Video
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;