Ashwin 500 Wicket: "लाखों में एक..." सचिन तेंदुलकर ने अश्विन के ऐतिहासिक कारनामे पर ऐसा रिएक्शन देकर लूटी महफिल

Sachin Tendulkar reaction on Ravichandran Ashwin: भारत और इंग्लैंड के बीच राजकोट में हो रहे सीरीज के तीसरे मुकाबले के दूसरे दिन भारतीय दिग्गज स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने एक बड़ा कारनामा किया है. अश्विन ने जैसे ही जैक क्रॉली को अपना शिकार बनाया, वैसे ही उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में अपने 500 विकेट पूरे कर लिए.

Ashwin 500 Wicket:

Sachin Tendulkar: सचिन तेंदुलकर ने अश्विन के टेस्ट में 500 विकेट लेने पर दिया यह रिएक्शन

भारत और इंग्लैंड के बीच राजकोट में हो रहे सीरीज के तीसरे मुकाबले के दूसरे दिन भारतीय दिग्गज स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने एक बड़ा कारनामा किया है. अश्विन ने जैसे ही जैक क्रॉली को अपना शिकार बनाया, वैसे ही उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में अपने 500 विकेट पूरे कर लिए. अनुभवी ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन, पूर्व कप्तान अनिल कुंबले के बाद 500 टेस्ट विकेट हासिल करने वाले दूसरे भारतीय गेंदबाज बने. अश्विन यह उपलब्धि हासिल करने वाले सिर्फ तीसरे ऑफ स्पिनर हैं. वह कुंबले के बाद भारत के दूसरे सबसे सफल टेस्ट गेंदबाज भी हैं. कुंबले के नाम 619 टेस्ट विकेट दर्ज हैं.

सैंतीस साल के अश्विन को इस मैचे से पहले यह उपलब्धि हासिल करने के लिए सिर्फ एक विकेट की दरकार थी. इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज जैक क्राउली उनकी गेंद को स्वीप करने के प्रयास में हवा में उछाल गए और शॉर्ट फाइन लेग पर रजत पाटीदार ने आसान कैच लपका. वहीं अश्विन के 500 विकेट लेने पर सचिन तेंदुलकर ने भी रिएक्शन दिया है. सचिन तेंदुलकर ने अश्विन के 500 टेस्ट विकेट पर एक्स पर पोस्ट किया,"लाखों में एक गेंदबाज के लिए 500 टेस्ट विकेट. अश्विन द स्पिनर में, हमेशा एक विनर है. टेस्ट क्रिकेट में 500 विकेट एक बहुत बड़ा मुकाम है. बधाई हो, चैंपियन."


अश्विन से पहले संन्यास ले चुके श्रीलंका के महान ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन (800) और ऑस्ट्रेलिया के ऑफ स्पिनर नाथन लियोन (517 विकेट) यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं. अश्विन टेस्ट क्रिकेट में 500 विकेट के आंकड़े को छूने वाले दुनिया के नौवें गेंदबाज हैं. वर्ष 2011 में पदार्पण करने वाले अश्विन ने अपने 98वें टेस्ट में यह उपलब्धि हासिल की.

चेन्नई के इंजीनियरिंग स्नातक अश्विन ने शीर्ष क्रम के बल्लेबाज के रूप में शुरुआत की और ऑफ स्पिनर की भूमिका निभाने से पहले मध्यम गति की गेंदबाजी में भी हाथ आजमाया. किशोरावस्था में पीठ की चोट के कारण उन्हें स्पिन गेंदबाजी को अपनाना पड़ा. कुंबले और हरभजन सिंह के युग के बाद अश्विन से काफी उम्मीदें थीं और उन्होंने निराश नहीं किया.

उन्होंने अपने शुरुआती 16 टेस्ट मैच में नौ बार पारी में पांच या इससे अधिक विकेट लिए और सबसे तेज 300 विकेट लेने वाले गेंदबाज बन गए. अश्विन ने छोटे प्रारूपों में भी अपनी योग्यता साबित की है. उन्होंने 116 एकदिवसीय मैचों में 156 विकेट जबकि 65 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 72 विकेट लिए हैं.

यह भी पढ़ें: "जिस तरह वह रन आउट हुआ..." इंग्लैंड के कोच ने सरफराज खान के रन आउट पर दिया ये बयान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें: IND vs ENG 3rd Test: बिना खेले इंग्लैंड को हुआ पांच रनों का फायदा, पारी 5/0 से हुई शुरू, जानें क्या हुआ ऐसा