ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ने की रोहित की तारीफ, भारतीय कप्तान की इस सफलता प्रतिशत के क्या कहने

Rohit Sharma: रोहित शर्मा की कप्तानी में टीम इंडिया फिलहाल 3-1 की बढ़त पर है. और अब फैंस को भरोसा हो चला है कि भारत धर्मशाला में भी जीतेगा

ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ने की रोहित की तारीफ, भारतीय कप्तान की इस सफलता प्रतिशत के क्या कहने

Rohit Sharma's record:

नई दिल्ली:

Rohit Sharma:सोमवार को रांची में इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट (Ind vs Eng 4th test) में जीत और सीरीज में 3-1 की बढ़त के बाद जहां हर ओर प्लेयर ऑफ द मैच  ध्रुव जुरेल (Dhruv Jurel) और यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) के दुनिया भर में जोर-शोर से चर्चे हैं, तो वहीं अब कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) को भी उनके हिस्से का श्रेय मिलना शुरू हो गया है. कंगारू दिग्गज इयान चैपल ने रोहित के कप्तानी कौशल की जमकर तारीफ की है. 

यह भी पढ़ें:

Rohit Sharma: "हम जो करना चाहते थे...", रांची टेस्ट में जीत के बाद कप्तान रोहित ने भरी हुंकार, बयान ने मचाई इंग्लैंड टीम में खलबली


Watch: "यह हार्दिक और इशान के  लिए...", जीत के बाद रोहित ने कह दी बड़ी बात, फैंस को एकदम समझ आ गई

चैपल ने अपने कॉलम में लिखा कि  चयन में स्थिरता को लेकर खिंचे काफी लंबे समय के बाद भारतीय टीम एकदम से बदली हुई दिख रही है. अक्सर रोहित के नेतृत्व की अनदेखी कर दी जाती है. पहले टेस्ट में मिली हार और टीम में कई बदलावों को सफलतापूर्वक तरीके से नियंत्रित करना उनके लचीलेपन को दिखाता है. तीसरे टेस्ट में जब भारत को जरुरत पड़ी है, तो उन्होंने शतक भी जड़ा. पूर्व दिग्गज ने कहा कि  इससे रोहित ने साबित किया कि वह खानापूर्ति करने वाले कप्तान नहीं हैं. रोहित के पास नेतृत्व की सफलता के लिए पर्याप्त गुण हैं. उनकी प्रतिष्ठा ने भारतीय टीम को सही दिशा में अग्रसरित किया है. 


इतने प्रतिशत है कप्तानी में जीत का प्रतिशत

रोहित ने अभी तक 15 टेस्ट मैचों में टीम इंडिया की कप्तानी की है. इसमें 9 मैचों में उन्हें जीत मिली है, जबकि 4 में हार का मुंह देखना पड़ा है. दो टेस्ट मैच में ड्रॉ छूटे हैं. ऐसे में कुल मिलाकर रोहित की कप्तानी में आंकड़े के लिहाज से 69.25 प्रतिशत सफलता मिली है, जो अच्छी खासी कामयाबी है. 

विदेश में है ऐसा रिकॉर्ड

इन्हीं 15 टेस्ट मैचों में रोहित ने पांच टेस्ट में भारत से बारत टीम की कप्तानी की है. इसमें उन्हें दो में जीत मिली है, तो इतने ही मैचों में हार, जबकि एक टेस्ट मैच ड्रॉ छूटा है. साफ है कि घरेलू जमीं  पर रोहित का रिकॉर्ड कहीं बेहतर है. इसमें उन्होंने 10 टेस्ट में से सात मुकाबले अपनी कप्तानी में जीते हैं, दो में हार हुई है, तो एक मैच ड्रॉ छूटा है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com