"जो होगा सो होगा बस तुम..." अर्शदीप सिंह ने बताया कैसे कप्तान सूर्या ने आखिरी ओवर करने से पहले किया मोटिवेट

Suryakumar Yadav IND vs AUS: अर्शदीप को चिन्नास्वामी स्टेडियम की मुश्किल पिच पर अंतिम ओवर में 10 रन का बचाव करने का जिम्मा सौंपा गया. बाएं हाथ के इस तेज गेंदबाज ने अपने बाउंसर और यार्कर का अच्छा इस्तेमाल करके भारत को 6 रन से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई

Arshdeep Singh ने बताया सिक्रेट

Arshdeep Singh on Suryakumar Yadav : पहले तीन ओवर में 37 रन लुटाने के बाद अंतिम ओवर में शानदार वापसी करने वाले तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के कप्तान मैथ्यू वेड को आउट करने के बाद उन्हें विश्वास हो गया था कि भारत पांचवा और अंतिम T20I क्रिकेट मैच (IND vs AUS 5th T20I) जीत सकता है. अर्शदीप को चिन्नास्वामी स्टेडियम की मुश्किल पिच पर अंतिम ओवर में 10 रन का बचाव करने का जिम्मा सौंपा गया. बाएं हाथ के इस तेज गेंदबाज ने अपने बाउंसर और यार्कर का अच्छा इस्तेमाल करके भारत को 6 रन से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई. इससे भारत ने पांच मैच की सीरीज 4-1 से जीती. अर्शदीप ने तीसरी गेंद पर वेड को श्रेयस अय्यर के हाथों कैच करा कर भारत को वापसी दिलाई. सइस तेज गेंदबाज को लगता है कि इससे भारत का पलड़ा भारी हो गया था.

उन्होंने मैच के बाद संवाददाताओं से कहा,"मुझे नहीं लगता कि परिस्थितियां गेंदबाजों के अनुकूल थी क्योंकि मैंने बहुत ढीली गेंदें की. अर्शदीप से पूछा गया कि जब कप्तान सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) ने उन्हें अंतिम ओवर करने के लिए दिया तो वह कैसा महसूस कर रहे थे, उन्होंने कहा,"मैं केवल यही सोच रहा था कि मेरे पास गंवाने के लिए कुछ भी नहीं है क्योंकि मैं पहले ही काफी रन लुटा चुका था।. सूर्या भाई ने भी यही बात कही कि "देखते हैं क्या होता है" . उन्होंने कहा,"मुझे लग रहा था कि मैं बाउंसर करके वेड के दिमाग में संदेह पैदा कर सकता हूं और जब मैंने उसका विकेट लिया तो मुझे विश्वास हो गया था कि हम मैं जीत सकते हैं."

यह भी पढ़ें: ''हम सीरीज से ये 2 चीजें हासिल करना चाहते थे, हम सफल रहे', सूर्यकुमार ने किया बड़ी बातों का जिक्र


इस तेज गेंदबाज ने सूर्यकुमार यादव के नेतृत्व कौशल की भी प्रशंसा की. उन्होंने कहा,"सूर्या भाई हमें काफी स्वतंत्रता देते हैं,  हम इस सीरीज में पहले बल्लेबाजों के लिए अनुकूल पिचों पर खेले हैं लेकिन वह कहते रहे कि जहां चुनौतियां हैं वहां अवसर भी जरूर होंगे. अर्शदीप ने कहा, "वह हमसे कहते रहे की परिणाम को लेकर चिंता मत करो तथा प्रक्रिया पर ध्यान दो. उन्होंने हम पर कभी दबाव नहीं बनाया. उन्होंने मुझसे कहा कि डेथ ओवरों में मैं जिस तरह की गेंदबाजी करना चाहता हूं वैसे ही करूं और वह उसका पूरा समर्थन करेंगे".

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अर्शदीप ने एक सप्ताह के अंदर शुरू होने वाले साउथ अफ्रीका के दौरे को बारे में कहा, "हमारा ध्यान अभी वर्तमान सीरीज पर था. हम बहुत आगे के बारे में नहीं सोच रहे थे. एक बार जब हम वहां (साउथ अफ्रीका) पहुंच जाएंगे तो वहां की परिस्थितियों को देखकर ही अपनी रणनीति तय करेंगे."



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)