INDvsNZ: आकाश चोपड़ा ने पहले अंपायरों को सुनाई खरी-खोटी, फिर कर दी ये बड़ी मांग

कॉमेंटेटर ने कहा कि जब खिलाड़ी बायो बबल में रह सकते हैं तो अंपायरों को क्या दिक्कत है. अब इस मैच में अंपायरों के फैसले पर ज्यादा चर्चा होने वाली है.

INDvsNZ: आकाश चोपड़ा ने पहले अंपायरों को सुनाई खरी-खोटी, फिर कर दी ये बड़ी मांग

आकाश चोपड़ा ने ट्वीट के जरिए अपनी बात कही

खास बातें

  • पहले दिन भारत ने बनाए 258 रन
  • खराब अंपायरिंग पर उठे सवाल
  • न्यूट्रल अंपायरों की हुई मांग
नई दिल्ली:

भारत (India) ने न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच के पहले दिन का खेल खत्म होने तक कानपुर(Kanpur) में चार विकेट के नुकसान पर 258 रन बना लिए थे.  श्रेयस अय्यर और रविंद्र जड़ेजा क्रमश: 75 और 50 रन बनाकर क्रीज पर नाबाद हैं. न्यूजीलैंड(New Zealand) की तरफ से काइल जेमीसन शानदार गेंदबाजी कर रहे हैं. उन्होंने पहले दिन तीन भारतीय बल्लेबाजों को चलता किया. पहले दिन मैच में खराब अंपायरिंग भी देखने को मिली. अगर न्यूजीलैंड ने भारतीय पारी के सांतवें ओवर में एख रिव्यू ले लिया होता तो शायद मैच का स्कोर कुछ और ही होता.  खराब अंपयारिंग के बारे में बात करते हुए आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने ट्विटर पर अपने मन की बात लिखी जिसमें उन्होंने न्यूट्रल अंपायर की मांग कर दी.

भारत-पाकिस्तान क्रिकेट संबंधों पर बोले मोहम्मद आमिर, निकाला ये नया 'फार्मूला'

तीसरे ही ओवर में शुभमन गिल ने एक डीआरएस का सही इस्तेमाल करते हुए खुद को बचाया था इसके बाद सांतवें ओवर में एजाज पटेल की एक गेंद उनके पेड पर लगी अपील भी की लेकिन अंपायर ने अपील को ठुकरा दिया. न्यूजीलैंड के कप्तान ने रिव्यू नहीं लेने का फैसला किया लेकिन जब रीप्ले में देखा गया तो पता लगा गेंद सीधे स्टंप पर जाकर लग रही थी. न्यूजीलैंड के खिलाड़ियों के दिमाग ये बात थी कि शुभमन गिल आगे निकलकर ये डिफेंस किया है तो गेंद शायद लंबा ट्रेवल करती और स्टंप मिस कर देगी. यहां भी खराब अंपायरिंग देखने को मिली. 

IPL 2022: केएल राहुल ने छोड़ी पंजाब किंग्स, इस नई टीम के बनेंगे 'कप्तान'

उस समय शुभमन गिल 6 रनों पर बल्लेबाजी कर रहे थे और बाद में उन्होंने टीम के लिए 52 रनों का योगदान दिया. कोविड-19 के चलते टेस्ट मैचों में अभी लोकर अंपायरों का इस्तेमाल किया जा  रहा है.  खराब अंपयारिंग के बारे में बात करते हुए आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने ट्विटर पर अपने मन की बात लिखी जिसमें उन्होंने न्यूट्रल अंपायर की मांग कर दी. उन्होंने कहा कि जब खिलाड़ी बायो बबल में रह सकते हैं तो अंपायरों को क्या दिक्कत है. 

अब इस मैच में अंपायरों के फैसले पर और भी ज्यादा ध्यान दिया जाएगा.

सचिन तेंदुलकर ने एमपी के गांवों का किया दौरा


. ​

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com