Budget 2019: मोदी सरकार 2.0 के पहले बजट में भारतीय रेलवे को क्या मिला? यहां पढ़ें

रेलवे में ट्रैक और रॉलिंग स्टॉक्स यानी रेल इंजन, कोच व वैगन निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए पीपीपी (निजी-सार्वजनिक साझेदारी) मॉडल अपनाया जाएगा.

Budget 2019: मोदी सरकार 2.0 के पहले बजट में भारतीय रेलवे को क्या मिला? यहां पढ़ें

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में बजट पेश किया.

नई दिल्ली:

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को संसद में मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का बजट पेश करते हुए जोर देकर कहा कि रेलवे को 2018 से 2030 तक 50 लाख करोड़ रुपये के निवेश की जरूरत है. उन्होंने यात्री और माल ढुलाई सेवाओं में तेजी से विकास करने के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी मॉडल) का प्रस्ताव दिया. सीतारमण ने कहा, 'अनुमान है कि 2018-2030 के बीच रेलवे की आधारभूत संरचना के लिए 50 लाख करोड़ के निवेश की जरूरत है.' 

उन्होंने कहा, 'यह देखते हुए कि रेलवे का पूंजीगत व्यय 1.5 से 1.6 लाख करोड़ प्रति वर्ष है, सभी स्वीकृत परियोजनाओं को पूरा करने में दशकों लगेंगे. इसीलिए ट्रैक और रॉलिंग स्टॉक्स यानी रेल इंजन, कोच व वैगन निर्माण कार्य और यात्री माल सेवाएं संचालित करने में तेजी से विकास लाने के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी का प्रस्ताव लाया गया है.'

बजट 2019: बैंक, स्वास्थ्य, किसान, शिक्षा से जुड़े हुए बड़े ऐलान, पढ़ें वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के भाषण की 12 खास बातें

वहीं उन्होंने अपने बजट भाषण में कहा कि रेलवे में ट्रैक और रॉलिंग स्टॉक्स यानी रेल इंजन, कोच व वैगन निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए पीपीपी (निजी-सार्वजनिक साझेदारी) मॉडल अपनाया जाएगा.


केंद्रीय बजट पेश करने वाली दूसरी महिला बनीं निर्मला सीतारमण

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: गांव-गरीब और किसान हमारे हरेक काम का केंद्र बिंदु: निर्मला सीतारमण



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)