कौन बनेगा T20 टीम का कप्तान?

कौन बनेगा T20 टीम का कप्तान? किसे सौंपनी चाहिए T20 टीम की बागडोर? कौन है सबसे क़ाबिल? क्या सीमित ओवर्स टीम का कप्तान किसी एक खिलाड़ी को नहीं बनाना चाहिए? क्या विराट कोहली से वनडे की भी कप्तानी नहीं ले लेनी चाहिए? सवाल कई हैं जिस पर इन दिनों से चर्चा गर्म है?

कौन बनेगा T20 टीम का कप्तान?

कौन बनेगा T20 टीम का कप्तान? किसे सौंपनी चाहिए T20 टीम की बागडोर? कौन है सबसे क़ाबिल? क्या सीमित ओवर्स टीम का कप्तान किसी एक खिलाड़ी को नहीं बनाना चाहिए? क्या विराट कोहली से वनडे की भी कप्तानी नहीं ले लेनी चाहिए? सवाल कई हैं जिस पर इन दिनों से चर्चा गर्म है? मौजूदा कप्तान विराट कोहली ने विराट कोहली ने T20 वर्ल्ड कप के बाद क्रिकेट के सबसे छोटे फ़ॉमैर्ट की कप्तानी छोड़ने का एलान कर दिया था. आईसीसी T20 वर्ल्ड कप UAE और ओमान में 17 अक्टूबर से खेला जाना है. T20 वर्ल्ड कप का फ़ाइनल 14 नवंबर को दुबई में खेला जाएगा. भारत का पहला ही मैच पाकिस्तान से है. ये मैच 24 अक्टूबर को खेला जाएगा. इतना ही नहीं, इस सीज़न के बाद वे रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की कप्तानी भी छोड़ रहे हैं.

बीसीसीआई ने कोहली के उत्तराधिकारी के नाम का एलान नहीं किया है. रोहित शर्मा का नाम सबसे आगे है और चर्चा केएल राहुल के नाम की भी है.
 
कप्तानी की दौड़ में तो 34 साल के रोहित शर्मा ही आगे हैं. 2013 में कप्तान बनने के बाद वे 5 बार अपनी टीम को आईपीएल चैंपियन बना चुके हैं. जबकि 29 साल के केएल राहुल दमदार व्यक्तिगत प्रदर्शन के बाद भी ट्रॉफ़ी नहीं जीता पाए हैं. पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर खुल कर रोहित शर्मा को कप्तानी सौंपने की बात कह रहे हैं. भारत-इंग्लैंड सीरीज़ के दौरान कमेंटरी में गावस्कर ने कहा था कि मुंबई इंडियंस की कप्तानी मिलने के बाद से रोहित शर्मा के खेल में निखार आया है.

"मुझे लगता है कि रोहित को अगले 2 वर्ल्ड कप के लिए टीम का कप्तान बनाया जाना चाहिए. दो वर्ल्ड कप लगातार खेले जाने हैं. आप जल्दी-जल्दी कप्तान तो नहीं बदल सकते."
 
रोहित की कप्तानी में भारत ने 2018 में निदहास ट्रॉफी और एशिया कप जीता था. गावस्कर केएल राहुल या ऋषभ पंत को उपकप्तान बनाए जाने की वकालत भी कर रहे हैं.

"मैं उपकप्तान के लिए केएल राहुल को देख रहा हूं. ऋषभ पंत के नाम पर भी विचार करुंगा. जिस तरह से स्टार से भरी दिल्ली टीम की कप्तानी कर रहे हैं और एनरिख़ नोकिए और कगीसो रबाडा का बेहतरीन इस्तेमाल कर रहे हैं, ये उनकी स्मार्ट कप्तानी की पहचान है."

सवाल है कि क्या कारण थे जिसके चलते विराट कोहली को T20 की कप्तानी छोड़नी पड़ी. दरअसल हाल के कुछ समय से विराट कोहली चौतरफ़ा दबाव बढ़ता गया. ये तो सब जानते ही हैं कि विराट कोहली की कप्तानी में भारत अब तक ICC का कोई ख़िताब जीत नहीं पाया है. 2019 के बाद से उनका ग्राफ़ भी गिरा है. वे एक भी शतक लगा नहीं पाए हैं. कोच रवि शास्त्री भी T20 वर्ल्ड कप के बाद अलविदा कहने वाले हैं. विराट के लिए 'रवि भाई' का साथ छूटना एक बड़ा झटका है. और इन सबसे बड़ी बात कहा जा रहा है कि टीम के कुछ वरिष्ठ खिलाड़ियों ने बीसीसीआई से कोहली के रवैये को लेकर शिकायत की है. शिकायत करने वालों में टेस्ट उपकप्तान अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा का नाम सामने आ रहा है. दो सबसे शांत रहने वाले खिलाड़ी शिकायत कर रहे हैं. यानी टीम में बग़ावत! हमेशा की तरह बीसीसीआई ने ख़बर को नकार दिया है लेकिन भला बिना आग के धुंआ उठता है क्या?

कहा जा रहा है कि वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फ़ाइनल में हार के बाद विराट कोहली ने टीम को ख़ूब खरी-खोटी सुनाई थी. पुजारा ने पहली पारी में 54 गेंद पर 8 और दूसरी में 80 गेंद पर 15 रन बनाए थे जबकि रहाणे ने पहली पारी में 117 गेंद पर 49 और दूसरी में 40 गेंद पर 15 रन बनाए थे. हार के बाद कोहली ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस में भी कहा था... "मानसिकता रन बनाने और रन बनाने के तरीके खोजने की होनी चाहिए. आपको आउट होने के बारे में ज़्यादा नहीं सोचना चाहिए."
 
विराट कोहली और रोहित शर्मा के बीच 'कोल्ड वॉर' की कहानियां छन-छन कर आती रही हैं. विराट और रविचंद्रन अश्विन के बीच भी तल्ख़ी के किस्से भी सुनाई पड़ते रहे हैं. कहा तो ये भी गया कि गया कि जानबूझ कर भारत-इंग्लैंड सीरीज़ के दौरान विराट और शास्त्री ने अश्विन को मौक़ा नहीं दिया गया. ज़ाहिर है विराट कोहली को कप्तानी छोड़नी पड़ी और शायद वनडे की भी छोड़नी पड़ेगी. इस दौरान उनका खुद का प्रदर्शन औसत से बेहतर होता तो बात बढ़ती नहीं. हां, बाज़ी उनके पक्ष में फिर पलट सकती है अगर मेंटॉर एमएस धोनी के साथ वे T20 वर्ल्ड कप जीत लें.

संजय किशोर एनडीटीवी में स्पोर्ट्स एडिटर हैं...

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) :इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.