कबूतर फ़ोटो खींचता है, चूहा नौकरी करता है, जासूसी की दुनिया के बेताज बादशाह हैं ये जीव

हम इंसानों को लगता है कि हमलोग ही इस दुनिया के सबसे बुद्धिमान जीव हैं, अगर आप ये सोच रखते हैं तो आप पूरी तरह से ग़लत हैं. बचपन में हम पंचतंत्र की कहानियां तो ज़रूर पढ़ी होंगी. इन कहानियों में जीव-जंतु को भी बेहद बुद्धिमान दिखाया गया है.

कबूतर फ़ोटो खींचता है, चूहा नौकरी करता है, जासूसी की दुनिया के बेताज बादशाह हैं ये जीव

जासूसी दुनिया के बेताज बादशाह हैं ये जीव.

हम इंसानों (Humans) को लगता है कि हमलोग ही इस दुनिया के सबसे बुद्धिमान जीव (Intelligent Animal) हैं, अगर आप ये सोच रखते हैं तो आप पूरी तरह से ग़लत हैं. बचपन में हम पंचतंत्र (Panchtantra) की कहानियां तो ज़रूर पढ़ी होंगी. इन कहानियों में जीव-जंतु (Animals) को भी बेहद बुद्धिमान दिखाया गया है. आइए आज हम आपको कुछ ऐसे जीवों के बारे में बताते हैं जो बेहद चालाक और जासूस हैं. ऐसे जीव हमारे लिए काफी उपयोगी रहे हैं. युद्ध के समय तो इन जीवों ने इंसानों की इतनी मदद की है, जिसकी कल्पना हम नहीं कर सकते हैं.

संदेश भेजने के लिए कबूतर का इस्तेमाल 

कबूतर शांति का प्रतीक है. पुराने जमाने में, जब कंप्यूटर और मोबाइल नहीं होते थे तो कबूतर ही हमारे संदेशों को ले जाते थे. प्राचीन काल से ही कबूतरों को संदेशवाहक समझा जाता था. युद्ध के समय जासूस कबूतरों का इस्तेमाल ख़ुफिया संदेश भेजने के लिए करते थे.

f30ucmc

फ़ोटोग्राफ़र कबूतर

 दूसरे विश्व युद्ध के समय कबूतरों के लिए एक विशेष तरह का कैमरा तैयार किया गया. 1907 में इनके गले में एक छोटा कैमरा बांध दिया जाता था ताकि जासूसी करते समय इसका इस्तेमाल किया जा सके. ऐसे कैमरे का कभी इस्तेमाल किया गया है या नहीं, इसका सबूत नहीं है.

foe3cm9g

कुत्ते इंसान के सबसे बेस्ट फ्रेंड होते हैं

इंसानों के सबसे करीब कोई जानवर होता है तो वो कुत्ता है. कुत्ते की ख़ासियत होती है कि वो वफादार और समझदार होते हैं. इंसान अपनी सुरक्षा के लिए कुत्तों को अपने साथ रखते हैं. कुत्ते आज बारूदी सुरंग और बम की सुगंध को आसानी से पकड़ लेते हैं. सोशल मीडिया पर कई ऐसे वीडियोज़ आपको देखने को मिल जाएंगे, जिसमें कुत्ते इंसानों की मदद करते हुए नज़र आते हैं.

d8ftmvq8

बम गिराने वाले चमगादड़

1940 में अमेरिका ने एक अनोखा प्रयोग शुरू किया था. इस प्रयोग में वो चमगादड़ों पर बम बांध देता था और उसकी मदद से विस्फोट करवाता था. यह बिल्कुल ड्रोन की तरह काम करता था. उस समय ये प्रयोग काफी अलग था. इस प्रयोग के बारे में कभी भी लोगों ने नहीं सुना था.

3hopsfho

जासूस बिल्ली

जानवरों की बात हो रही है तो बिल्ली मासी को कैसे भूल सकता है कोई. दरअसल, 1960 में CIA ने बिल्लियों के ज़रिए सोवियत दूतावासों में जासूसी करने की योजना शुरू की. ये प्रयोग बिल्कुल अनोखा और अलग था. इस तरह की जासूसी में कोई रिस्क भी नहीं था. सीआईए बिल्लियों में ऑपरेशन कर के माइक्रोफोन, बैटरी, एंटीना कर लगा देता था. 

u9ni2p7o

नौकरी वाले चूहे

बात जब बिल्ली मौसी की हो रही है तो चुहे की भी होनी चाहिए. जासूसी के मामले में चुहे भी किसी से कम नहीं हैं. चूहे चटोरे होते हैं, थोड़े नटखट होते हैं, मगर जासूसी के मामले में आगे होते हैं. तंजानिया में 'अपोपो' नाम का एक गैर सरकारी संगठन चूहों को बारुदी सुरंग सूंघने की ट्रेनिंग दे रहा है. इन चूहों का काम बारूदी सुरंगों को सूंघने का है.

5igqot4g

जासूस डॉल्फिन


डॉल्फिन ऐसा जीव है जो इंसानों के बेहद करीब है. अपनी कलाबाज़ी से डॉल्फिन हमारा मन मोह लेती है. लेकिन शायद आपको नहीं पता होगा कि सी लायन और डॉल्फिन अमेरिकी सेना में 1960 से काम कर रहे हैं. वे दुश्मन गोताखोरों का पता लगाते थे, इसके अलावा इनका काम जहाज़ के यात्रियों को सुरक्षित तट तक पहुंचाने का था. 

je1ck11o

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सभी जीवों की अपनी एक अलग ख़ासियत होती है. इन जीवों को ही देख लीजिए, कैसे वे इंसानों की मदद कर रहे हैं. ये सभी जानकारी dw.com से ली गई है.