जब ऑस्‍ट्रेलिया के PM स्कॉट मॉरिसन का नाम भूल गए US राष्‍ट्रपति जो बाइडेन, कहा - "इस ऑस्‍ट्रेलियाई शख्‍स ने..."

ऑस्‍ट्रेलियाई लोगों को गुरुवार को उस समय बेहद हैरानी हुई जब अमेरिका के राष्‍ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden)ने नए रक्षा गठबंधन में शामिल होने के लिए उनके देश (ऑस्‍ट्रलिया ) के पीएम को धन्‍यवाद तो दिया लेकिन उनका नाम भूल गए.

जब ऑस्‍ट्रेलिया के PM स्कॉट मॉरिसन का नाम भूल गए US राष्‍ट्रपति जो बाइडेन, कहा -

सिडनी:

ऑस्‍ट्रेलियाई लोगों को गुरुवार को उस समय बेहद हैरानी हुई जब अमेरिका के राष्‍ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden)ने नए रक्षा गठबंधन में शामिल होने के लिए उनके देश (ऑस्‍ट्रलिया ) के पीएम को धन्‍यवाद तो दिया लेकिन उनका नाम भूल गए. अमेरिका-ब्रिटेन-ऑस्‍ट्रेलिया के अहम भूमिका के लिए पीएम स्‍कॉट मॉरिसन का नाम लेने के बजाय उन्‍होंने 'इस ऑस्‍ट्रेलियाई शख्‍स ने (that fellow Down Under)" कहकर संबोधित किया. टीवी पर व्‍हाइट हाउस की ओर से की गई घोषणा में दिखाए गए वीडियो में विडेन के अलावा ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन और ऑस्‍ट्रेलिया के पीएम स्‍कॉट मॉरिसन भी नजर आए.  ये दोनों वर्चुअली इस कार्यक्रम में शामिल हुए थे. बाइडेन ने इस मौके पर एक समझौते के बारे में जानकारी दी जो ऑस्‍ट्रेलिया को परमाणु संचालित पनडुब्बियों (Nuclear-powered submarines)से लैस  करेगा. 

बाइडेन ने कहा, 'धन्‍यवाद बोरिस और .... मैं इस ऑस्‍ट्रेलियाई शख्‍स को धन्‍यवाद देना चाहूंगा. बहुत-बहुत धन्‍यवाद दोस्‍त.  हम इसकी सराहना करते है श्रीमान प्रधानमंत्री  (Thank you, Boris and... and I want to thank that fellow Down Under. Thank you very much, pal. Appreciate it, Mr Prime Minister)' ऑस्‍ट्रेलिया के मीडिया में बाइडेन की यह 'भूल' सुखियों में रही. Cairns Post ने हैडलाइन में चलाई, 'शुक्रिया दोस्‍त, बाइडेन लगात हैमॉरिसन का नाम भूल गए (Thanks pal': Biden appears to forget Morrison's name)'. सिडनी मॉर्निग हेरल्‍ड ने अपने विश्‍लेषण में लिखा, 'डिफेंस डील की वह शानदार शुरुआत नहीं हो पाई जैसी कि मॉरिसन उम्‍मीद कर रहे थे. निश्चित रूप से जब जो बाइडेन अहम क्षणों में उनका (ऑस्‍ट्रेलियाई पीएम का) नाम भूल गए. '


सिडनी के डेली टेलीग्राफ में जेम्‍स मोरो के विश्‍लेषण में लिखा गया है कि यह असमंजस भरे क्षण इस अहम डील के महत्‍व को कम नहीं कर सकते. यह डील ऐसे समय हुई है जब एशिया प्रशांत क्षेत्र में चीनी सेना अपना प्रभाव बढ़ा रही है.गौरतलब है कि अफगानिस्‍तान मामले में बाइडेन को इस समय अपने मुल्‍क में काफी आलोचना का सामना करना पड़ा रहा है लेकिन  बाइडेन ने अफगानिस्तान से अमेरिकी सेनाओं की वापसी के फैसले का जोरदार तरीके से बचाव किया है. अमेरिकी सेनाएं 20 साल लंबे सैन्य अभियान के बाद अफगानिस्तान की सरजमीं छोड़ चुकी हैं. ये अमेरिकी इतिहास का सबसे लंबा और सबसे खर्चीला युद्ध रहा है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


- - ये भी पढ़ें - -
* भारत में पिछले 24 घंटे में नए COVID-19 केसों में लगभग 12.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी
* सीएम योगी का ट्वीट- नौकरी नीलाम करेंगे तो घर नीलाम कर देंगे- यूजर्स बोले- पहले दे तो दीजिए
* Video: "घाटी में रहने वाले सभी हिंदू कश्मीरी पंडित नहीं हैं": जम्मू कश्मीर हाईकोर्ट