LPG Price Hike : आम जनता पर महंगाई का बोझ, और महंगा हो गया गैस सिलिंडर, इतना बढ़ा खर्चा

LPG Price Hike News : 1 सितंबर, 2021 को देशभर में एलपीजी सिलेंडरों के दाम बढ़ा दिए गए हैं. गैर-सब्सिडी गैस सिलिंडर आज से और महंगे हुए. पेट्रोलियम कंपनियों ने आज से सिलिंडरों को 25 रुपये प्रति लीटर और महंगा कर दिया है. वहीं, कॉमर्शियल गैस सिलिंडरों के दाम भी बढ़े हैं.

नई दिल्ली:

आम जनता की जेब पर पड़ रही महंगाई का बोझ कम होने के बजाय बढ़ता ही जा रहा है. सितंबर महीने की शुरुआत के साथ ही कुकिंग गैस सिलिंडर के दामों में वृद्धि (cooking gas cylinder price hike) हो गई है. बुधवार को यानी 1 सितंबर, 2021 को देशभर में एलपीजी सिलेंडरों के दाम बढ़ा दिए हैं. गैर-सब्सिडी गैस सिलिंडर (non-subsidy LPG price) आज से और महंगे हो जाएंगे. पेट्रोलियम कंपनियों ने आज से सिलिंडरों को 25 रुपये प्रति लीटर और महंगा कर दिया है. वहीं, कॉमर्शियल गैस सिलिंडरों में भी वृद्धि हुई है.

घरेलू और कॉमर्शियल गैस सिलिंडर के दाम बढ़े

घरेलू गैस सिलिंडरों के दामों में 25 रुपये प्रति सिलिंडर की बढ़ोतरी हुई है. यह बढ़ोतरी गैर सब्सिडी वाले गैस सिलिंडरों पर हुई है. इस बढ़ोतरी के बाद अगर राजधानी दिल्ली की बात करें तो अब एक 14.2 किलोग्राम वाला कुकिंग गैस सिलिंडर 884.50 रुपये में मिलेगा. 

वहीं, कॉमर्शियल गैस सिलिंडरों के दामों में तो 75 पैसे प्रति सिलिंडर की बढ़ोतरी की गई है. अब 19 किलोग्राम का एक सिलिंडर 1693 रुपये में खरीदना होगा. 

क्या है अलग-अलग शहरों में 14.2 किग्रा के LPG सिलिंडर की कीमत

शहर          नई कीमतें           पुरानी कीमतें

दिल्ली-         884.50 रुपये   859.50 रुपये

मुंबई-           884.50 रुपये   859.50 रुपये     

कोलकाता-    911 रुपये       886 रुपये

चेन्नई-           900 रुपये     875.5 रुपये

लखनऊ-     922 रुपये      897.5 रुपये

15 दिनों में दूसरी बार बढ़ोतरी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि एलपीजी सिलिंडर में यह बढ़ोतरी 15 दिनों में दूसरी बार की गई है. इसके पहले 18 अगस्त को घरेलू एलपीजी सिलिंडर के दामों में 25 रुपये प्रति सिलिंडर की बढ़ोतरी की गई थी. उस वक्त बढ़ोतरी सब्सिडी वाले और गैर-सब्सिडी वाले दोनों ही कैटेगरी के सिलिंडरों के लिए की गई थी. इसके पहले 1 जुलाई को भी कुकिंग गैस का सिलिंडर 25.50 रुपये प्रति सिलिंडर महंगा हुआ था.