"चीन से आयात क्यों बढ़ रहा है, PM जवाब दें...": NDTV से बोले आप सांसद संजय सिंह

अरुणाचल प्रदेश के तवांग में भारत-चीन के सैनिकों के बीच हाल में हुई झड़प को लेकर विपक्ष सरकार को घेरने में लगा हुआ है और सदन में चर्चा की मांग कर रहा है.

नई दिल्ली:

आप सांसद संजय सिंह ने एनडीटीवी से बात करते हुए केंद्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि हम सरकार से पूछना चाहते हैं कि गालवान, डोकलाम और अब तवांग में चीनी टुकड़ों के बावजूद चीन से आयात क्यों बढ़ रहा है. भारत ने क्यों 700000 करोड़ से ज्यादा का व्यापार चीनी बंधक को दे दिया है. जब तक प्रधानमंत्री हमारे इन सवालों का जवाब नहीं देते, हम राज्यसभा में चीन के बारे में चर्चा की मांग करते रहेंगे.

बता दें अरुणाचल प्रदेश के तवांग में भारत-चीन के सैनिकों के बीच हाल में हुई झड़प को लेकर विपक्ष सरकार को घेरने में लगा हुआ है और सदन में चर्चा की मांग कर रहा है. वहीं  कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने अरुणाचल प्रदेश के तवांग में भारत-चीन के सैनिकों के बीच हाल में हुई झड़प को लेकर केंद्र सरकार पर संसद में चर्चा से भागने का आरोप लगाया . ‍कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, “हम कह रहे हैं कि उनसे (केंद्र सरकार से) हम सदन (संसद) में बात करना चाहते हैं. राज्यसभा में हमने नोटिस दिया है.. नोटिस देने के बावजूद भी वे चर्चा के लिये तैयार नहीं हैं.”  रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह एक पन्ने का बयान देकर चले गए. हम बोले भई चर्चा करो.. हमको बताओ.. देश की जनता को भी बताओ.. संसद में क्या हो रहा है.. सरकार क्या कर रही है? उन्होंने केंद्र सरकार से पूछा कि वह जानकारी क्यों छुपाती हैं? उन्होंने कहा कि कांग्रेस और उसके नेता राहुल गांधी देश के साथ हैं और “हम सभी लोग मिलकर इस देश की रक्षा के लिये एक होकर लड़ेंगे.” खरगे ने केंद्र पर यह आरोप भी लगाया, “यह सरकार बात तो जोरों से करती है .. जोर लगाकर करती है, लेकिन लोकतंत्र को खत्म कर रही है.”

शीतकालीन सत्र निर्धारित वक्त से खत्म हो सकता है : सूत्र

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

संसद का शीतकालीन सत्र 7 दिसंबर को शुरू हुआ था, और इस दौरान काफी हंगामा होता रहा, जिसकी वजह से बार-बार दोनों सदनों की कार्यवाही को स्थगित करना पड़ा. सत्तापक्ष तथा विपक्ष के सदस्यों के बीच अरुणाचल प्रदेश में चीन से झड़प के मुद्दे पर हंगामा लगातार जारी रहा. सूत्रों के अनुसार, बहुत से विपक्षी नेताओं ने सरकार तथा लोकसभा स्पीकर से क्रिसमस तथा नववर्ष के त्योहारी सत्र का ज़िक्र करते हुए शीतकालीन सत्र के जल्द समापन का आग्रह किया है.