'जामिया में भड़की हिंसा के बाद बिना इजाजत यूनिवर्सिटी कैंपस में घुसी दिल्ली पुलिस'

जामिया मिल्लिया इस्लामिया के चीफ प्रॉक्टर वसीम अहमद खान ने रविवार को दावा किया कि दिल्ली पुलिस के कर्मी बिना अनुमति के जबरन विश्वविद्यालय में घुस गये और कर्मचारियों और स्टूडेंट्स को पीटा गया

'जामिया में भड़की हिंसा के बाद बिना इजाजत यूनिवर्सिटी कैंपस में घुसी दिल्ली पुलिस'

पुलिस जबरन परिसर में घुसी, अनुमति नहीं ली गई: चीफ प्रॉक्टर

खास बातें

  • जामिया नगर में हुए हिंसक प्रदर्शन पर यूनिवर्सिटी प्रशासन का दावा
  • दिल्ली पुलिस बिना अनुमति के घुसी कैंपस के अंदर
  • यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट और कर्मचारियों की हुई पिटाई
नई दिल्ली:

जामिया मिल्लिया इस्लामिया के चीफ प्रॉक्टर वसीम अहमद खान ने रविवार को दावा किया कि दिल्ली पुलिस के कर्मी बिना अनुमति के जबरन विश्वविद्यालय में घुस गये और कर्मचारियों और स्टूडेंट्स को पीटा गया तथा उन्हें परिसर से जाने को मजबूर किया गया.  विश्वविद्यालय की कुलपति नजमा अख्तर ने कहा कि पुस्तकालय के भीतर मौजूद छात्रों को निकाला गया और वे सुरक्षित हैं. उन्होंने पुलिस कार्रवाई की निंदा की. 

जामिया हिंसा : चश्‍मदीद ने NDTV से कहा, जब बसों में आग लगाई गई तब कई यात्री अंदर ही थे

सूत्रों ने बताया कि दक्षिण दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा होने के तुरन्त बाद पुलिस जामिया मिल्लिया इस्लामिया परिसर में घुस गई और छिपने के लिए परिसर में आये कुछ ‘‘बाहरी लोगों'' को गिरफ्तार करने के लिए विश्वविद्यालय के द्वारों को बंद कर दिया. जामिया मिल्लिया छात्रों के समूह के साथ-साथ टीचर्स एसोसिएशन ने भी रविवार की अपराह्र विश्वविद्यालय के निकट हुई हिंसा और आगजनी से खुद को अलग किया है. 

नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के चलते दिल्ली के इन चार मेट्रो स्टेशनों पर आवाजाही बंद

पुलिस के साथ युवक छात्रावासों से बाहर आते दिखे जिनके हाथ ऊपर की तरफ उठे हुए थे. उनमें से कुछ ने दावा किया कि पुलिस लाइब्रेरी में भी घुसी और स्टूडेंट्स का ‘‘उत्पीड़न'' किया. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video: जामिया के हिंसक प्रदर्शन के बाद NDTV से बोले यूनिवर्सिटी के छात्र