महाराष्‍ट्र के डिप्‍टी स्‍पीकर 16 बागी विधायकों को भेज सकते हैं अयोग्‍यता का नोटिस : सूत्र

सूत्रों ने यह भी बताया कि अयोग्‍यता मामले में सुनवाई सोमवार को हो सकती है और बागियों को इसके लिए मुंबई में मौजूद रहना होगा. 

महाराष्‍ट्र के डिप्‍टी स्‍पीकर 16 बागी विधायकों को भेज सकते हैं अयोग्‍यता का नोटिस : सूत्र

एकनाथ शिंदे गुट के बागी विधायक गुवाहाटी की एक होटल में डेरा डाले हुए हैं

मुंबई :

महाराष्‍ट्र के सियासी संकट थमने का नाम नहीं ले रहा है. बागी विधायकों के एकनाथ शिंदे गुट और सीएम उद्धव ठाकरे के बीच सुलह की तमाम उम्‍मीदें खत्‍म होती जा रही हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, महाराष्‍ट्र के डिप्‍टी स्‍पीकर, बागी गुट के 16 विधायकों को अयोग्‍यता मामले में नोटिस भेज सकते हैं. इन विधायकों को मुंबई आना होगा.सूत्रों ने यह भी बताया कि अयोग्‍यता मामले में सुनवाई सोमवार को हो सकती है और बागियों को इसके लिए मुंबई में मौजूद रहना होगा. गौरतलब है कि महाराष्‍ट्र के सियासी घमासान में बागी एकनाथ शिंदे के गुट की स्थिति लगातार मजबूत होती जा रही है. शिवसेना के एक और विधायक के गुवाहाटी पहुंचकर एकनाथ शिंदे के अगुवाई वाले बागी गुट से जुड़ने की खबर है.

सीएम उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को पार्टी के जिला प्रमुखों की बैठक में भावुक संबोधन दिया. शिवसेना में आई दोफाड़ की स्थिति के बीच उन्‍होंने कहा कि आप पेड़ के फूल फल और टहनी ले जा सकते हैं लेकिन जड़ें नहीं नहीं तोड़ सकते.”  ठाकरे ने कहा कि बागी विधायक शिवसेना तोड़ना चाहते हैं. उन्होंने कहा, "मर जाएँगे फिर भी शिवसेना नहीं छोड़ेंगे, ये कहने वाले आज भाग गये.”  उद्धव ठाकरे ने कहा,”जो छोड़ गये उनके लिए मुझे बुरा क्यों लगे, में कोई भी सत्तानाट्य नहीं कर रहा हूं.” महाराष्‍ट्र के इस सियासी घटनाक्रम के बीच एनसीपी प्रमुख शरद पवार, अजित पवार और अन्‍य एनसीपी नेता, सीएम उद्धव ठाकरे के घर मिलने के लिए पहुंचे. एनसीपी प्रमुख और सीएम ठाकरे के बीच लंबी बैठक हुई.

* 'व्यापार चौपट हो जाएगा...', फेस्टिव सीजन में डीजल वाहनों की दिल्ली में 'नो एंट्री' के आदेश से व्यापारी नाराज
* 'दिल्ली के LG और CM के बीच टकराव एक बार फिर शुरू, जानें क्या है पूरा मामला
* कानूनी दांवपेच में फंस सकता है महाराष्ट्र का सियासी घमासान, यहां समझें- कैसै?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


महाराष्ट्र में राजनीतिक खींचतान जारी, जानें अब आगे क्या होगा?