दिल्ली में कोरोना टीका लगवाने के लिए अस्पताल जाने की ज़रूरत नहीं, 45+ के लिए भी स्‍कूलों में टीकाकरण शुरू

दिल्ली सरकार ने सोमवार से दिल्ली के सरकारी स्कूलों में 45 से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण शुरू कर दिया है.

दिल्ली में कोरोना टीका लगवाने के लिए अस्पताल जाने की ज़रूरत नहीं, 45+ के लिए भी स्‍कूलों में टीकाकरण शुरू

दिल्ली के सरकारी स्कूलों में 45 से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए भी टीकाकरण शुरू कर दिया है

खास बातें

  • अभी तक 18+ के लिए हो रहा था स्‍कूलों में टीकाकरण
  • अब 45+ के लिए भी स्‍कूलों में टीकाकरण शुरू किया गया
  • केवल आधार कार्ड एक मोबाइल फोन ले जाने की है जरूरत
नई दिल्ली:

दिल्ली और राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) के लोगों के लिए राहत की खबर है. अगर आपकी उम्र 45 साल से ज्यादा है और आप कोरोना का टीका लगवाना चाहते हैं तो आपको किसी अस्पताल या डिस्पेंसरी में जाने की जरूरत बिल्कुल नहीं है.दिल्ली सरकार ने सोमवार से दिल्ली के सरकारी स्कूलों में 45 से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण शुरू कर दिया है. गौरतलब है कि अभी तक दिल्ली सरकार के स्कूलों में केवल 18 से 44 साल के लोगों के लिए टीकाकरण अभियान चल रहा था. 

ऑक्सीजन और रेमडेसिविर के बाद अब 'ब्लैक फंगस' की दवाई भी बाजार से गायब, भटक रहे हैं लोग

पूर्वी दिल्ली के पटपड़गंज विधानसभा क्षेत्र के मंडावली के सर्वोदय कन्या विद्यालय के टीकाकरण केंद्र में टीका लगवाने आए 60 वर्षीय विश्वजीत ने बताया कि 'मैं पास में ही रहता हूं. मैंने न तो कोई अपॉइंटमेंट लिया था और न ही कोई रजिस्ट्रेशन करवाया था. मुझे जैसे ही पता चला कि स्कूल के अंदर टीका लग रहा है तो मैं यहां पर आया, यहीं पर मेरा रजिस्ट्रेशन हो गया और मुझे टीका भी लगा दिया गया. सबसे अहम बात है कि मैं अस्पताल नहीं जाना चाहता था, यहां स्कूल में बिना किसी दिक्कत के और भीड़-भाड़ के मुझे टीका लग गया.' स्कूल की प्रिंसिपल कुसुमवती शाहवालिया ने बताया 'अगर आप 45 साल से ऊपर के हैं तो आप केवल आधार कार्ड और एक मोबाइल फोन ले आएं जिसमें ओटीपी आ सके. बाकी सारा काम स्कूल का स्टाफ और स्वास्थ्य विभाग की टीम यहां पर कर लेगी और आपको बिना किसी दिक्कत के टीका लग जाएगा.'


"हम PM की वैज्ञानिक समझ की कीमत चुका रहे हैं" : शाहिद जमील के इस्तीफे पर बोले ओवैसी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि अभी तक 45 वर्ष से ऊपर के लोगों को टीका लगवाने के लिए अस्पताल या डिस्पेंसरी जाना पड़ रहा था क्योंकि इनके लिए टीके का इंतजाम वहीं पर किया गया था. बहुत से लोग इन जगहों पर जाकर टीका लगवाने से बच रहे थे क्योंकि उनके मन में शंका थी कि कहीं वहां पर जाने से संक्रमण न हो जाए या भीड़भाड़ में आकर संक्रमण का खतरा न पैदा हो जाए. यही नहीं, अभी तक की व्यवस्था में गरीब तबके, झुग्गी-झोपड़ी वाले या ऐसे लोगों के लिए समस्या थी जो टेक्नोलॉजी ज्यादा नहीं जानते थे और  Cowin पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन या अपॉइंटमेंट नहीं कर पा रहे थे, इस नई व्यवस्था से ऐसे लोगों को फायदा होगा.आपको बता दें 45 वर्ष से ऊपर के लोगों के लिए अभी तक दिल्ली में  374 जगहों (अस्पतालों और डिस्पेंसरी में) टीकाकरण चल रहा था, अब 83 स्कूलों में भी इस व्यवस्था को शुरू कर दिया गया है.