जनता अब अपनी सुविधानुसार 24x7 लगवा सकती है कोरोना का टीका : डॉ हर्षवर्धन

केंद्रीय स्वास्थ्यमंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने ट्वीट कर कहा कि अब जनता सुविधानुसार 24x7 कोरोना का टीका लगवा सकती है. निजी और सरकारी- दोनों ही अस्पतालों में कोई टाइम बाउंडेशन नहीं रहेगी.

जनता अब अपनी सुविधानुसार 24x7 लगवा सकती है कोरोना का टीका : डॉ हर्षवर्धन

स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने कोरोना वैक्सीन लगवाने को लेकर दी ये अहम जानकारी. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन (Vaccination) की रफ्तार बढ़ाने के लिए सरकार ने वक्त की बंदिश खत्म कर दी है. अब जनता सुविधानुसार 24x7 कोरोना का टीका लगवा सकती है. इसकी घोषणा खुद स्वास्थ्यमंत्री हर्षवर्धन (Dr Harsh Vardhan) ने की है. हर्षवर्धन ने ट्वीट किया है कि 'सरकार ने वैक्सीनेशन की रफ़्तार बढ़ाने के लिए समय की बाध्यता समाप्त कर दी है. देश के नागरिक अब 24x7अपनी सुविधानुसार टीका लगवा सकते हैं. PM देश के नागरिकों के स्वास्थ्य के साथ-साथ उनके समय की कीमत बखूबी समझते हैं. समय की ये सुविधा अब सरकारी और निजी दोनों अस्पतालों पर लागू होगी.' 

स्वास्थ्य मंत्री दैनिक भास्कर की उस रिपोर्ट पर जवाब दे रहे थे, जिसमें कहा गया था कि अब लोग प्राइवेट अस्पतालों में कभी भी वैक्सीन लगवा सकते हैं. हालांकि, वैक्सीनेशन ड्राइव को देख रही सरकार की साइट CoWIN और इसके ऐप से निजी और सरकारी अस्पताल दोनों ही जुड़े हुए हैं, ऐसे में यहां भी टाइम शेड्यूल की कोई बंदिश नहीं रहेगी.

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को कहा कि 'CoWIN पोर्टल पर 9 से 5 का कोई वैक्सीनेशन सिस्टम नहीं है. इसपर अस्पतालों के पास जबतक वो चाहे वैक्सीनेट करने का विकल्प होता है. वो रात 8 बजे तक भी वैक्सीनेट कर सकते हैं. उन्हें अपनी क्षमता और शेड्यूल वगैरह को लेकर राज्य सरकार से बातचीत करनी होगी.'

पढ़ें- मुंबई में 10 महीने के निचले स्तर पर पहुंचा कोरोना से मौतों का सिलसिला, एक दिन में COVID-19 से 2 मौत

वैक्सीनेशन के लिए अस्पतालों में टाइम बाउंडेशन खत्म करने का एक कारण भीड़ लगना भी है. स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि 'हम इसके लिए अलग-अलग वक्त निर्धारित नहीं करना चाहते थे. यह कभी भी हो सकता है, सुबह, दोपहर. अस्पताल की क्षमता पर निर्भर करता है. हमें अहम जानकारी मिली थी कि अस्पतालों में बहुत ज्यादा भीड़ हो रही है. हम सिस्टम में बदलाव ला रहे हैं ताकि वैक्सीनेशन की जगहों पर भीड़ न हो.'

बता दें कि देश में कोरोना के खिलाफ 16 जनवरी से वैक्सीनेशन शुरू किया गया है. पहले चरण में लाखों हेल्थकेयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाया गया था. पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को प्राथमिकता दी गई थी. 1 मार्च से वैक्सीनेशन ड्राइव का दूसरा चरण शुरू हुआ है. इस चरण में 60 से ज्यादा उम्र के लोगों और गंभीर बीमारियों से जूझ रहे 45 से ऊपर की उम्र के लोगों को टीका लगाया जाएगा.

यह भी पढ़ें : क्या Covid-19 वैक्सीन के साइड इफेक्ट भी हैं? क्या कहते हैं एक्सपर्ट, जरूर पढ़ें


भारत में कोरोना वायरस के नए मामलों में बुधवार को फिर वृद्धि देखने को मिली है. आज 15000 के करीब नए केस दर्ज किए गए हैं, जबकि मंगलवार को यह आंकड़ा 12,000 से थोड़ा अधिक था. स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बुधवार सुबह जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 14,989 नए COVID-19 केस दर्ज हुए हैं. इसके साथ देश में संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 1,11,39,516 हो गई है. इस दौरान यानी बीते 24 घंटे में  98 मरीजों की मौत हुई है. देश में अब तक 1,57,346 मरीजों की मौत हुई है.  

कोरोना वैक्सीनेशन के लिए तैयार की गई गंभीर बीमारियों की लिस्ट पर उठे सवाल, जानिए क्यों?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com