10 साल की कमाई लेकर बंद हो चुके नोटों के साथ बैंक पहुंचा नेत्रहीन दंपति, जिलाधिकारी ने दिखाई दरियादिली

जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को एक नेत्रहीन दंपति की मदद करते हुए अपनी व्यक्तिगत बचत में से उन्हें 25 हजार रुपये दिए.

10 साल की कमाई लेकर बंद हो चुके नोटों के साथ बैंक पहुंचा नेत्रहीन दंपति, जिलाधिकारी ने दिखाई दरियादिली

प्रतीकात्मक तस्वीर

इरोड (तमिलनाडु):

जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को एक नेत्रहीन दंपति की मदद करते हुए अपनी व्यक्तिगत बचत में से उन्हें 25 हजार रुपये दिए. नेत्रहीन होने के कारण दंपति को यह पता ही नहीं चला कि उनके द्वारा की गई बचत में एक हजार और पांच सौ के नोट चार साल पहले ही बंद कर दिए गए थे. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि अगरबत्ती बेचकर आजीविका कमाने वाले सोमू (58) और उनकी पत्नी पलानीअम्मल ने दस साल से भी अधिक समय में जितनी बचत की थी, जिलाधिकारी सी कतिरावन ने उससे एक हजार रुपये अधिक देकर उनकी सहायता की.


सूत्रों ने कहा कि सोमू द्वारा सरकार से मदद की अपील किए जाने के दो दिन बाद जिलाधिकारी ने अच्छे नागरिक की भूमिका का निर्वाह करते हुए वाहन भेजकर दंपति को कार्यालय बुलाया और उन्हें चेक सौंपा. उन्होंने 24,000 रुपये मूल्य के पुराने नोटों को जिले के प्रमुख बैंक में जमा कराने का निर्देश दिया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सूत्रों ने कहा कि सोमू और उनकी पत्नी ने तात्कालिक सहायता के लिए अधिकारी को धन्यवाद दिया. सोमू ने कहा कि शुक्रवार को जब वह अपनी बचत राशि बैंक में जमा कराने गए तब उन्हें पता चला कि एक हजार और पांच सौ के नोट नवंबर 2016 में ही बंद कर दिए गए थे.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)