जेल में बंद एक्टिविस्ट नवदीप कौर से मिलने गए थे AAP के नेता, लौटाए गए, खट्टर को बताया 'हिटलर'

मंगलवार को करनाल में आम आदमी पार्टी के पंजाब के नेता- विधायक हरपाल चीमा, विधायक सरवजीत कौर और अनमोल गगन मान नवदीप कौर से मिलने पहुंचे थे, लेकिन कोरोना का हवाला देकर उन्हें वापस लौटा दिया गया.

जेल में बंद एक्टिविस्ट नवदीप कौर से मिलने गए थे AAP के नेता, लौटाए गए, खट्टर को बताया 'हिटलर'

लेबर एक्टिविस्ट नवदीप कौर 12 जनवरी से करनाल की जेल में बंद हैं.

करनाल:

हरियाणा के करनाल जेल में बंद श्रम अधिकारों की कार्यकर्ता नवदीप कौर के समर्थन में बहुत से लोग और राजनतिक पार्टी के नेता आ चुके हैं. मंगलवार को करनाल में आम आदमी पार्टी के पंजाब के नेता कौर से मिलने पहुंचे थे, जिसमें विधायक हरपाल चीमा, विधायक सरवजीत कौर और अनमोल गगन मान शामिल थीं लेकिन उन्हें कौर से मिलने नही दिया गया. इसके पीछे कोरोनावायरस को वजह बताया गया.

कौर से न मिलने देने के बाद आप के विधायक हरपाल चीमा ने खट्टर सरकार को हिटलर की सरकार बताया. वहीं, चीमा ने कहा कि नवदीप पंजाब की बेटी है, उससे मिलने आए और कोरोना का बहाना बताकर मिलने नही दिया गया. चीमा ने कहा कि 'पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को हरियाणा सरकार से बात करके नवदीप को बाहर निकालना चाहिए था लेकिन कैप्टन साहब अपनी डियूटी निभाने में फेल साबित हुए हैं. लेकिन आप के नेता यहां पहुंचे हैं और हम अपनी बेटी के साथ हैं.'

हरपाल चीमा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा कि 'देश के पीएम पूंजीपतियों का पीएम हैं और इनमें पूरी तरह से आज हिटलर की आत्मा आ चुकी है क्योंकि आज देश का किसान कह रहा है कि काले कानून रदद् करो लेकिन पीएम मोदी साहब को दिख नही रहा है.'

यह भी पढ़ें : 'कृषि कानूनों पर किसानों को कैसे भ्रमित किया जाए...': हरियाणा के BJP वर्कर ने बैठक में पूछा


आप नेता अनमोल गगन मान ने भी सरकार पर गुस्सा निकाला और कहा कि इनका अंत आ गया है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि 23 साल की लेबर एक्टिविस्ट नवदीप कौर पर तीन मामले चल रहे हैं जिनमें हत्या का प्रयास और जबरन वसूली के प्रयास के आरोप शामिल हैं. वह मजदूर अधिकार संगठन की सदस्य हैं और पंजाब के मुक्तसर जिले के गियादढ़ गांव की निवासी हैं. हरियाणा पुलिस ने 12 जनवरी को सोनीपत जिले में एक औद्योगिक इकाई को कथित रूप से घेराव करने और कंपनी से पैसे की मांग करने के लिए उन्हें अन्य लोगों के साथ गिरफ्तार किया था. कौर को एक मामले जमानत मिल चुकी है, लेकिन दूसरी याचिका खारिज हो जाने के चलते वो अभी जेल में ही हैं.