'मन की बात' में PM मोदी ने की भारत-चीन तनाव से लेकर COVID-19 तक की बात, बोले- 'कोरोना को हराना है, अर्थव्यवस्था को बढ़ाना है'

PM Modi's Mann Ki Baat: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'रविवार को मन की बात' कार्यक्रम में लद्दाख में चीन के साथ तनाव, कोरोना संकट समेत तमाम विषयों पर अपनी बात रखी.

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi)  ने 'रविवार को मन की बात' (Mann ki Baat) कार्यक्रम में लद्दाख में चीन के साथ तनाव, कोरोना संकट समेत तमाम विषयों पर अपनी बात रखी. प्रधानमंत्री ने कहा कि महामारी पर भी खूब बातें हुईं. लोग चर्चा कर रहे हैं कि आखिर यह साल कब बीतेगा? लोग दोस्तों से कह रहे हैं यह साल अच्छा नहीं है, 2020 शुभ नहीं है. हो सकता है ऐसी बातचीत के कुछ कारण भी हों. हम कहां जानते थे कि कोरोना जैसा संकट आएगा. देश में नित नई चुनौतियां सामने आ रही हैं. देश के पूर्वी छोर पर तूफान आया. किसान भाई बहन टिड्डी दल के हमले से परेशान हैं. देश में छोटे-छोटे भूकंप आ रहे हैं. इन सब के बीच पड़ोसी जो कर रहे हैं देश उससे भी निपट रहा है. भारत का इतिहास ही आपदाओं और चुनौतियों पर जीत हासिल कर और ज्यादा निखरकर निकलने का रहा है . उन्होंने कहा कि सैकड़ों वर्षों तक अलग- अलग आक्रांताओं ने भारत पर हमला किया, लोगों को लगता था कि भारत की संरचना ही नष्ट हो जाएगी, लेकिन इन संकटों से भारत और भी भव्य होकर सामने आया. प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम से जुड़ी 10 अहम बातें यहां पढ़ें.

प्रधानमंत्री मोदी ने भारत-चीन तनाव पर कहा, "लद्दाख में भारत की तरफ आंख उठाने वालों को करारा जवाब मिला है. भारत मित्रता निभाना जानता है तो आंख में आंख डालकर चुनौती देना भी जानता है. अपने वीर-सपूतों के बलिदान पर, उनके परिजनों में गर्व की जो भावना है, देश के लिए जो ज़ज्बा है - यही तो देश की ताकत है. आपने देखा होगा, जिनके बेटे शहीद हुए, वो माता-पिता, अपने दूसरे बेटों को भी, घर के दूसरे बच्चों को भी, सेना में भेजने की बात कर रहे हैं."

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने जिस तरह मुश्किल समय में दुनिया की मदद की, उसने आज, शांति और विकास में भारत की भूमिका को और मज़बूत किया है. दुनिया ने भारत की विश्व बंधुत्व की भावना को भी महसूस किया है. अपनी संप्रभुता और सीमाओं की रक्षा करने के लिए भारत की ताकत और भारत की प्रतिबद्धता को भी देखा है. हमारा हर प्रयास इसी दिशा में होना चाहिए, जिससे, सीमाओं की रक्षा के लिए देश की ताकत बढ़े, देश और अधिक सक्षम बने, देश आत्मनिर्भर बने - यही हमारे शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि भी होगी.

कोरोना को लेकर पीएम मोदी ने कहा, "मेरे प्यारे देशवासियों, कोरोना के संकट काल में देश लॉकडाउन से बाहर निकल आया है. अब हम अनलॉक के दौर में हैं. Unlock के इस समय में, दो बातों पर बहुत focus करना है - कोरोना को हराना और अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाना, उसे ताकत देना. लॉकडाउन से ज्यादा सतर्कता हमें अनलॉक के दौरान बरतनी है. आपकी सतर्कता ही आपको कोरोना से बचाएगी. इस बात को हमेशा याद रखिए कि अगर आप मास्क नहीं पहनते हैं, दो गज की दूरी का पालन नहीं करते हैं, तो, आप अपने साथ-साथ दूसरों को भी जोखिम में डाल रहे हैं. 


उन्होंने देश को संबोधित करते हुए कहा कि अनलॉक के दौर में बहुत-सी ऐसी चीजें भी अनलॉक हो रही हैं, जिनमें भारत दशकों से बंधा हुआ था. वर्षों से हमारा खनन क्षेत्र लॉकडाउन में था. Commercial Auction को मंजूरी देने के एक निर्णय ने स्थिति को पूरी तरह से बदल दिया है कुछ ही दिन पहले स्पेस सेक्टर में ऐतिहासिक सुधार किए गए. कृषि क्षेत्र को देखें, तो, इस क्षेत्र में भी बहुत सारी चीजें दशकों से फसी थीं. इस क्षेत्र को भी अब अनलॉक कर दिया गया है. इससे एक तरफ किसानों को अपनी फसल कहीं पर भी, किसी को भी, बेचने की आजादी मिली है, वही, उन्हें अधिक ऋण मिलना भी सुनिश्चित हुआ है. 

वीडियो: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 'मन की बात' कार्यक्रम, कहा- कर रहे आगे बढ़ने का प्रयास

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com