दिल्ली में लॉकडाउन के कारण बंद है जामा मस्जिद, घर पर ऐसे मनाई जा रही है ईद

आज देश भर में ईद का त्योहार धूमधाम से मनाया जा रहा है. वहीं राष्ट्रीय राजधानी में ईद उल फितर के अवसर पर अपने घर पर नमाज अदा की क्योंकि COVID-19 लॉकडाउन के कारण मस्जिदें बंद है.

दिल्ली में लॉकडाउन के कारण बंद है जामा मस्जिद, घर पर ऐसे मनाई जा रही है ईद

नई दिल्ली:

आज देश भर में ईद का त्योहार धूमधाम से मनाया जा रहा है. वहीं राष्ट्रीय राजधानी में ईद उल फितर के अवसर पर अपने घर पर नमाज अदा की क्योंकि COVID-19 लॉकडाउन के कारण मस्जिदें बंद है.

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भी अपने घर पर नमाज अदा की और ईद-उल-फितर के मौके पर सभी के स्वास्थ्य और खुशहाली की कामना की.

उन्होंने कहा कि एहतियात, रोकथाम और प्रार्थना ही हमें इस महामारी से निजात दिलाएगी. लोगों के अच्छे स्वास्थ्य और भलाई को सुनिश्चित करने के लिए सरकार और समाज मिलकर काम कर रहे हैं.

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, "कोरोना महामारी के कारण सोशल डिस्टेसिंग को ध्यान में रखते हुए आज मैंने ईद-उल-फितर के अवसर पर अपने आवास पर नमाज अदा की और देश की समृद्धि, सद्भाव, एकता, स्वास्थ्य और खुशहाली की कामना करता हूं"

जामा मस्जिद भीड़ से बचने के लिए बंद रहेगा और लोगों को यहां चल रहे कोविड -19 महामारी के कारण नमाज अदा करने की अनुमति नहीं है. इस बीच, राष्ट्रीय राजधानी में जामा मस्जिद के बाहर सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है.

न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए, ADCP-I सेंट्रल ने रोहित मीणा से कहा कि इस साल भी हमने जामा मस्जिद के पास बल तैनात किया है और लोगों से नमाज़ अदा करने और इस त्योहार को घर पर मनाने का आग्रह किया है. वहीं लोग समझदार हैं और अपने घरों में ईद उल-फितर समारोह  मना रहे हैं."

बता दें, राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच, दिल्ली सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में 17 मई तक लॉकडाउन लगाने का आदेश दिया है.

दुनिया भर के मुस्लिम समुदाय आमतौर पर विभिन्न मस्जिदों और बड़े मैदानों में ईद की नमाज अदा करते हैं, लेकिन पिछले साल कोविड महामारी की शुरुआत के बाद से, विभिन्न धार्मिक प्रमुखों  द्वारा सभाओं को रोक दिया गया है.

ईद-उल-फितर के मौके पर लोग सुबह जल्दी उठते हैं, सलात-उल-फराज (रोजाना नमाज अदा) करते हैं, नहाते हैं, नए कपड़े पहनते हैं और इफ्तार (इत्र) डालते हैं.  बता दें, मुस्लिम समुदाय के लोग ईद के त्योहार का जश्न पूरे 3 दिनों तक मनाते हैं. ईद के दिन लोग नए कपड़े पहनते हैं और अल्लाह का शुक्रिया अदा करते हैं. ईद के दिन की शुरुआत ईद की नमाज के साथ होती है. इसके बाद सब एक दूसरे को गले मिलकर ईद की मुबारकबाद देते हैं. एक दूसरे के घर जाते हैं और दोस्तों और रिश्तेदारों में मिठाइयां और तोहफे बांटते हैं. सभी बड़े इस दिन अपने छोटों को तोहफे के रूप में ईदी देते हैं.


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com