सीएम अरविंद केजरीवाल का सहयोगी और ED का अधिकारी भी था पेगासस के निशाने पर

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के निजी सहायक के रूप में काम कर चुके पूर्व भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी वीके जैन भी पेगासस के निशाने पर थे. साथ ही लीक हुए रिकॉर्ड में पीएमओ और नीति आयोग में काम करने वाले कम से कम एक-एक अधिकारी के नंबर भी इसमें मिले हैं.

सीएम अरविंद केजरीवाल का सहयोगी और ED का अधिकारी भी था पेगासस के निशाने पर

पेगासस से जुड़ी ताजा रिपोर्ट में अरविंद केजरीवाल के सहयोगी का भी नाम

नई दिल्ली:

पेगासस जासूसी कांड की परतें दिन-ब-दिन खुलती जा रही हैं. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के सहयोगी और प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी भी पेगासस स्पाईवेयर के निशाने पर थे.  द वायर ने इस 'जासूसी' घोटाले पर ताजा रिपोर्ट में इन नामों का खुलासा किया है. प्रवर्तन निदेशालय के वरिष्ठ अधिकारी राजेश्वर सिंह के दो फोन नंबर और उनके परिवार की तीन महिलाओं के नंबर फ्रांस की नॉन प्रॉफिट फॉरबिडन द्वारा एक्सेस किए गए डाटाबेस पर मिले हैं, जिन्हें उन्होंने द वायर, वाशिंगटन पोस्ट और अन्य मीडिया संस्थानों से शेयर किया है.

इसके साथ ही दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के निजी सहायक के रूप में काम कर चुके पूर्व भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी वीके जैन भी पेगासस के निशाने पर थे. साथ ही लीक हुए रिकॉर्ड में पीएमओ और नीति आयोग में काम करने वाले कम से कम एक-एक अधिकारी के नंबर भी इसमें मिले हैं.

गौरतलब है कि आरोप लगाए जा रहे है कि पेगासस स्पाइवेयर के जरिए दुनियाभर में लोगों की जासूसी कराई गई. द गार्डियन, वाशिंगटन पोस्ट, द वायर सहित दुनियाभर के कई मीडिया संस्थानों ने पेगासस स्पाईवेयर के बारे में खुलासा किया है.


पेगासस जासूसी के आरोपों पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने कहा कि सरकार को जेपीसी बनानी चाहिए या सुप्रीम कोर्ट से जांच के लिए मौजूदा जज नियुक्त करने का अनुरोध करना चाहिए. कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पेगासस मुद्दे पर संसद में बयान देना चाहिए, उन्हें स्पष्ट करना चाहिए कि क्या जासूसी की गई थी? कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी पर संसदीय समिति द्वारा जांच की तुलना में संयुक्त संसदीय समिति (JPC) द्वारा जांच अधिक प्रभावी हो सकती है. उन्होंने कहा कि अगर फ्रांस, इजराइल पेगासस जासूसी मामले की जांच के आदेश दे सकते हैं तो भारत क्यों नहीं? 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उधर, शिवसेना सांसद संजय राउत ने रविवार को पूछा कि पेगासस द्वारा नेताओं और पत्रकारों की कथित जासूसी का वित्तपोषण किसने किया? उन्होंने इसकी तुलना हिरोशिमा परमाणु बम हमले से करते हुए कहा कि जापान के इस शहर पर हमले से लोगों की मौतें हुईं तो वहीं इजराइली सॉफ़्टवेयर की जासूसी से ‘स्वतंत्रता की मौत' हुई. शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना' के अपने साप्ताहिक स्तंभ ‘रोखठोक' में राउत ने यह बात लिखी.