आर्यन खान केस में गवाह मुकर गया : 18 करोड़ के लेनदेन के आरोपों के बीच NCB का दावा

दरअसल, आर्यन खान केस की जांच कर रहे एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े ने मुंबई पुलिस को लिखा 'Don't-Arrest-Me' का ख़त. फंसाए जाने का डर जाहिर करते हुए कानूनी कार्रवाई से सुरक्षा मांगी है. 

मुंबई:

Aryan Khan Case: मुंबई क्रूज़ ड्रग्स केस की जांच नया मोड़ आता दिख रहा है. आर्यन केस से जुड़े मामले में गवाह प्रभाकर सईल मुकर गए हैं. प्रभाकर के समीर वानखेड़े को 8 करोड़ मिलने के सनसनीखेज आरोप के एक दिन बाद एनसीबी ने ये जानकारी मुंबई की कोर्ट में आज सुबह दी. एनसीबी द्वारा एनडीपीएस कोर्ट में दायर एक जवाबी हलफनामे में इस बात का इशारा है कि सईल ने जो हलफनामा दाखिल किया है, उससे पता चलता है कि वह मुकर गया है. दरअसल, आज NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े और NCB के वकील NDPS कोर्ट पहुंचे हैं और दो एफिडेविट फ़ाइल किए गए हैं. एक में पंच के मुकरने को लेकर NCB की ओर से बातें कही गई हैं. दूसरे में खुद जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े ने मुकरे हुए पंच के बहाने खुद पर दबाव बनाने का आरोप लगाया है.


इससे पूर्व रविवार को इस केस की जांच में लगे जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर आरोप अब खुद एनसीबी के एक गवाह प्रभाकर सईल ने लगाया. प्रभाकर का कहना है कि उसने एक अन्य गवाह किरण गोसावी को 18 करोड़ रुपए की डील की बात करते सुना और ये भी सुना कि इसमें से आठ करोड़ रुपए वानखेड़े को दिए जाएंगे. एनसीबी ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है और उधर एनसीपी ने इस मामले में एक बार फिर आरोप लगाया है कि एक साजिश के तहत अभिनेता शाहरूख़ ख़ान के बेटे आर्यन ख़ान को इस मामले में फंसाया जा रहा है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उधर एनसीबी पर लगे आरोपों पर DG एनसीबी को मुंबई एनसीबी के अधिकारियों ने मेल के जरिए एक विस्तृत रिपोर्ट सौंपी है. सूत्रों के मुताबिक- DDG NR ज्ञानेश्वर सिंह जो NCB के चीफ विजिलेंस ऑफिसर भी है, उन्हें DG NCB मामले की आंतरिक जांच सौंपगे. एनसीबी के जेडी समीर वानखेड़े मंगलवार को दिल्ली पहुंच रहे हैं, हालांकि दिल्ली वो एक रिव्यू मीटिंग के सिलसिले में NCB हेडक्वार्टर पहुचेंगे.  जानकारी के मुताबिक DG समीर वानखेड़े से कल NCB पर लगे आरोपों पर भी बात करेंगे. बता दें कि आर्यन ख़ान केस की जांच कर रहे एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े ने मुंबई पुलिस को लिखा 'Don't-Arrest-Me' का ख़त. फंसाए जाने का डर जाहिर करते हुए कानूनी कार्रवाई से सुरक्षा मांगी है.