VIDEO: नौसेना ने सर्चलाइट से ढूंढे अरब सागर में फंसे हुए लोग, ऐसे किया रेस्क्यू

नौसेना (Indian Navy) की ओर से बुधवार को बताया गया कि बेहद खराब मौसम से जूझते हुए उसके जवानों ने बजरा पी-305 पर मौजूद 261 लोगों में से अब तक 186 को बचा लिया है.

खास बातें

  • नौसेना ने 186 लोगों को बचाया
  • अभी तक 26 शव बरामद
  • 49 लोग अब भी लापता
मुंबई:

पी-305 पर मौजूद लोगों में से कम से कम 26 की मौत हो चुकी है और 49 लोग अब भी लापता हैं. उल्लेखनीय है कि यह बजरा चक्रवात ताउते (Tauktae) के कारण मुंबई के तट से कुछ दूर सागर में फंसने के बाद डूब गया था. नौसेना (Indian Navy) के एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी. नौसेना की ओर से बुधवार को बताया गया कि बेहद खराब मौसम से जूझते हुए उसके जवानों ने बजरा पी-305 पर मौजूद 261 लोगों में से अब तक 186 को बचा लिया है, दो लोगों को ''टगबोट'' वारप्रदा से बचाया गया है.

अभी तक 26 शवों को बरामद किया गया है और बजरा पी-305 पर मौजूद 49 लोग अब भी लापता हैं, जो सोमवार को डूब गया था. नौसेना ने अभी तक बताया था कि बजरे पर 273 लोग मौजूद थे लेकिन बुधवार की शाम को एक अधिकारी ने इसका संचालन करने वाली कंपनी के हवाले से बताया कि बजरे पर 261 थे. मुंबई पुलिस जांच करेगी कि चक्रवात ताउते के बारे में चेतावनी जारी करने के बावजूद बजरा पी-305 उस क्षेत्र में क्यों रूका रहा. यह जानकारी एक अधिकारी ने दी.

'23 फीट ऊंची लहरें और 1 Km दूर भी नहीं दिख रहा था'- साइक्लोन 'ताउते' के बीच ऐसा था नेवी का रेस्क्यू ऑपरेशन

दक्षिण मुंबई में येलो गेट पुलिस ने बजरे पर मौजूद लोगों में से जिनका शव बरामद हुआ है, उस सिलसिले में एक दुर्घटनावश मृत्यु रिपोर्ट (एडीआर) दर्ज की है. नौसेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि दो अन्य बजरों तथा एक ऑयल रिग पर मौजूद सभी लोग सुरक्षित हैं. प्रवक्ता ने बताया, ‘‘मुंबई और गुजरात में तीसरे दिन भी तलाश एवं बचाव अभियान अभी जारी है और लोगों को तट तक सुरक्षित लाने की उम्मीद हमने अब तक नहीं छोड़ी है.'' उन्होंने कहा कि हालांकि लोगों के सुरक्षित मिलने की उम्मीद समय बीतने के साथ क्षीण पड़ती जा रही है.

joctspi

उल्लेखनीय है कि ये बजरे चक्रवात ताउते के गुजरात तट से टकराने से कुछ घंटे पहले मुंबई के पास अरब सागर में फंस गए थे. इस बीच नौसेना का युद्धपोत आईएनएस कोच्चि पी-305 से बचाए गए 186 लोगों में से 125 को लेकर बुधवार सुबह मुंबई पहुंचा. प्रवक्ता ने बताया कि इनके साथ ही 22 शवों को भी लाया गया. नौसेना के एक प्रवक्ता ने बताया, ‘‘बुधवार सुबह तक, पी-305 पर मौजूद 186 कर्मियों को बचा लिया गया है. आईएनएस तेग, आईएनएस बेतवा, आईएनएस ब्यास, पी-81 विमान और हेलीकॉप्टरों की मदद से तलाश एवं बचाव अभियान जारी है.''

Cyclone Tauktae: समुद्र में फंसे लोगों को निकालने का अभियान जारी, अब तक 422 लोगों को बचाया गया

नौसेना और तटरक्षक बल ने बजरे ‘जीएएल कन्स्ट्रक्टर' में मौजूद 137 लोगों को मंगलवार तक बचा लिया था. अधिकारियों ने बताया कि बजरे एसएस-3 पर मौजूद 196 लोग और ऑयल रिग सागर भूषण पर मौजूद 101 लोग सुरक्षित हैं. ओएनजीसी तथा एससीआई के पोतों के जरिए इन्हें तट तक सुरक्षित लाया जा रहा है. बचाव एवं राहत कार्यों में मदद के लिए क्षेत्र में पोत आईएनएस तलवार भी तैनात है.


नौसेना के एक अधिकारी ने बताया कि 707 कर्मियों के साथ तीन बजरे और एक ऑयल रिग सोमवार को समुद्र में फंस गए थे. इनमें 273 लोगों के साथ ''पी305'' बजरा, 137 कर्मियों के साथ ''जीएएल कंस्ट्रक्टर'' और एसएस-3 बजरा शामिल है, जिसमें 196 कर्मी मौजूद थे. साथ ही ''सागर भूषण'' ऑयल रिग भी समुद्र में फंस गया था, जिसमें 101 कर्मी मौजूद थे. नौसेना के उप प्रमुख वाइस एडमिरल मुरलीधर सदाशिव पवार ने कहा कि यह बीते चार दशक में सर्वाधिक चुनौतीपूर्ण तलाश एवं बचाव अभियान है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: चक्रवाती तूफान ताउते में डूबे पी-305 बार्ज पर सवार 22 लोगों के शव बरामद



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)