कोलकाता की रैली में बोलीं ममता बनर्जी- वे ईवीएम, सीआरपीएफ चुनाव आयोग के दम पर चुनाव जीते हैं

आपको बता दें कि ममता बनर्जी ने रैली से पहले ट्विटर पर राज्य में वाम दल के 34 वर्षों के शासन के दौरान सभी ‘‘शहीदों’’ को श्रद्धांजलि दी और लोगों से देश में लोकतंत्र बहाल करने के लिए लड़ने का अनुरोध किया.  उन्होंने 13 युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं को भी याद किया जो आज के दिन 1993 में पुलिस की गोलीबारी में मारे गए थे. बनर्जी उस समय युवा कांग्रेस की नेता थीं जब पश्चिम बंगाल में वाम मोर्चा सत्ता में था. तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) 13 युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं की याद में हर साल 21 जुलाई को शहर में शहीद दिवस रैली निकालती है.    

कोलकाता की रैली में बोलीं ममता बनर्जी- वे ईवीएम, सीआरपीएफ चुनाव आयोग के दम पर चुनाव जीते हैं

नई दिल्ली:

कोलकाता में रैली को संबोधित करते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने कहा कि वे (बीजेपी) चुनाव ईवीएम, सीआरपीएफ चुनाव आयोग के दम पर चुनाव जीते हैं. उन्हें सिर्फ 18 सीटें मिली हैं. कुछ सीटें जीतकर वे पार्टी ऑफिस कब्जा करने की कोशिश कर रहे हैं और कार्यकर्ताओं को पीट रहे हैं. इसके साथ ही ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग से अपील करते हुए कहा कि पंचायत और म्यनिसपल चुनाव बैलेट पेपर से करवाए जाएं. बंगाल की सीएम ने कहा कि इस बार लोकसभा चुनाव 'इतिहास' नहीं, 'रहस्य' है. रैली में ममता बनर्जी ने एक तरह से चेतावनी देते हुए, 'कुछ बीजेपी नेता कहते हैं कि टीएमसी नेताओं को बसों से खींचों, मैं बीजेपी से कहती हूं कि अगर हमने इस तरह से करना शुरू कर दिया तो क्या झेलने के लायक होंगे?

सोनभद्र नरसंहार : ममता बनर्जी ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- प्रियंका गांधी को रोक कर सही नहीं किया 

आपको बता दें कि ममता बनर्जी ने रैली से पहले ट्विटर पर राज्य में वाम दल के 34 वर्षों के शासन के दौरान सभी ‘‘शहीदों'' को श्रद्धांजलि दी और लोगों से देश में लोकतंत्र बहाल करने के लिए लड़ने का अनुरोध किया.  उन्होंने 13 युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं को भी याद किया जो आज के दिन 1993 में पुलिस की गोलीबारी में मारे गए थे. बनर्जी उस समय युवा कांग्रेस की नेता थीं जब पश्चिम बंगाल में वाम मोर्चा सत्ता में था. तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) 13 युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं की याद में हर साल 21 जुलाई को शहर में शहीद दिवस रैली निकालती है.    


प.बंगाल में चुनाव से पहले राजनीतिक हलचल तेज, मुकुल रॉय का दावा विभिन्न पार्टियों के 107 विधायक BJP में हो सकते हैं जल्द शामिल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बनर्जी ने कहा, ‘‘आज ऐतिहासिक 21 जुलाई शहीद दिवस है. आज के दिन 26 साल पहले पुलिस की गोलीबारी में 13 युवा कार्यकर्ताओं की हत्या की गई थी. तब से हम इस दिन को शहीद दिवस के तौर पर मनाते हैं. सभी शहीदों को मेरी श्रद्धांजलि जो वाम दल के 34 साल के शासन के दौरान मारे गए.'' उन्होंने कहा कि इस साल की रैली लोकतंत्र को ‘‘बचाने'' के लिए इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के बजाय मत पत्रों को वापस लाने पर केंद्रित होगी. मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘21 जुलाई 1993 को प्रदर्शन की मुख्य मांग थी ‘कोई आईडी कार्ड नहीं, कोई वोट नहीं'.  इस साल हमने लोकतंत्र को बहाल करने का आह्वान किया. कोई मशीन नहीं, मत पत्रों को वापस लाओ. हमारे महान देश में लोकतंत्र को बहाल रखने के लिए लड़ने का संकल्प लीजिए.'' लोकसभा चुनावों में भाजपा के शानदार प्रदर्शन की पृष्ठभूमि में यह रैली आयोजित की गई. भाजपा ने पश्चिम बंगाल में 42 सीटों में से 18 पर जीत हासिल की थी.