ITBP की 10 साइकिल रैलियां पहुंची दिल्ली, महात्मा गांधी को 16 हजार किमी की दूरी तय कर दी श्रद्धांजलि

भारत तिब्बत सीमा पुलिस (India Tibet Border Police) की ओर से निकाली गईं 10 साइकिल रैलियां दिल्ली पहुंची. यह रैलियां 15 अगस्त से शुरू हुई थीं, हजारों किलोमीटर की दूरी तय कर महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर उनकी समाधि पर श्रद्धांजलि अर्पित की गई.

ITBP की 10 साइकिल रैलियां पहुंची दिल्ली, महात्मा गांधी को 16 हजार किमी की दूरी तय कर दी श्रद्धांजलि

भारत तिब्बत सीमा पुलिस की ओर से निकाली गईं 10 साइकिल रैलियां दिल्ली पहुंची.

नई दिल्ली :

देश की आजादी के 75 साल (आजादी का अमृत महोत्सव) होने के अवसर पर भारत तिब्बत सीमा पुलिस (India Tibet Border Police) की ओर से निकाली गईं 10 साइकिल रैलियां दिल्ली पहुंची. यह रैलियां 15 अगस्त से शुरू हुई थीं, देश के विभिन्न सुदूरवर्ती इलाकों में हजारों किलोमीटर की दूरी तय कर शनिवार को महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर उनकी समाधि पर श्रद्धांजलि अर्पित की गई. इन रैलियों ने कुल 16,426 किमी की दूरी तय की. इस दौरान स्थानीय जनता को आजादी का अमृत महोत्सव और भारत सरकार की अन्य पहल जैसे फिट इंडिया मूवमेंट, स्वच्छ भारत अभियान आदि के बारे में जागरूक किया गया.  

इन रैलियों में कुल 10 रूट इस प्रकार रहे 

1    गोगरा से राजघाटः 1612 किलोमीटर 
2    ईटानगर से राजघाट: 2916 किलोमीटर 
3    तेजपुर से राजघाट: 2756 किलोमीटर 
4    गुवाहाटी से राजघाटः 2545 किलोमीटर
5    सिलीगुड़ी से राजघाटः  2054 किलोमीटर
6    पटना से राजघाटः 1516 किलोमीटर
7    कानपुर से राजघाटः  935 किलोमीटर
8    बरेली से राजघाटः 571 किलोमीटर
9    भोपाल से राजघाटः 956 किलोमीटर
10    करेरा से राजघाटः 565 किलोमीटर

लद्दाख के दुर्गम इलाकों से होते हुए देश के उत्तरी क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा के नजदीक गोगरा/हॉट स्प्रिंग, चांगचेनमो घाटी, लेह लद्दाख से राजघाट, नई दिल्ली तक साइकिल रैली आयोजित की गई. रैली जलियांवाला बाग जैसे भारत के स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण स्थानों से होकर भी गुजरी. यात्रा के दौरान रैली मार्सिमिक-ला (5,582 मीटर), चांगला (5319 मीटर), ताउंगे ला (5328 मीटर) जैसे दुनिया के कुछ सबसे ऊंचे मोटर मार्गों और दर्रों (7 दर्रों) को पार करते हुए अटल सुरंग से होती हुई मनाली पहुंची. 21 सितंबर 2021 को रैली स्वतंत्रता सेनानी सुखदेव सिंह के जन्म स्थान लुधियाना पहुंची. रैली ने जगराव (पंजाब) में अमर शहीद सुखदेव सिंह के वंशज को सम्मानित किया. 22 सितंबर 2021 को टीम ने महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्वर्गीय लाला लाजपत राय को उनके स्मारक पर श्रद्धांजलि दी और 23 सितंबर 2021 को पंजाब में संगरूर जिले में सनौर पहुंचने पर शहीद उधम सिंह के स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की गई 

ईटानगर (अरूणाचल प्रदेश), तेजपुर (असम) और गुवाहाटी (असम) से 03 साइकिल रैलियों का शुभारंभ किया गया, रैली ने 8217 किमी की दूरी तय की. 

रैलियां 07 राज्यों अरुणाचल प्रदेश, असम, पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तपर प्रदश, उत्तराखण्ड  और दिल्ली से होकर गुज़रीं. साइकिल रैलियां द्वारा यात्रा में पडने वाले ऊबड-खबड रास्तों , भारी बारिश और कठोर मौसम का सामना किया गया। स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि स्वसरूप विभिन्न सांस्कृसतिक कार्यक्रम आयोजित किए. स्थानीय जनता को आजादी का अमृत महोत्सव, और भारत सरकार की अन्य पहल जैसे फिट इंडिया मूवमेंट, स्वच्छ भारत अभियान आदि के बारे में जागरूक किया गया.  

पटना से निकली आईटीबीपी की साइकिल रैली 1516 किलोमीटर की दूरी तय कर 02 अक्टूबर 2021 को राजघाट पर समाप्त हुई. रैली ने जदीशपुर (वीर कुंवर सिंह, जन्म स्थान), वाराणसी, प्रयागराज जैसे कई शहरों में स्वतंत्रता सेनानियों के स्मारकों पर श्रद्धा सुमन अर्पित किये और जनता से आज़ादी के अमृत महोत्सव पर संवाद स्थापित किया. 

कानपुर से राजघाट, नई दिल्ली तक 935 किलोमीटर लंबी साइकिल रैली निकाली गई. साइकिल रैली प्रतिदिन 40-50 किमी की दूरी तय कर कानपुर, लखनऊ, हरदोई, बरेली से होते हुए नई दिल्ली पहुंची. बरेली से निकली रैली 11 दिनों में लगभग 571 किलोमीटर की दूरी तय कर राजघाट पहुंची. रैली को मार्ग पर पडनें वाले विभिन्न  स्थानों मुरादाबाद, नूरपुर, बिजनौर, देहरादून, हरिद्वार आदि स्थानों पर स्था‍नीय जनता द्वारा रैली का बड़े उत्साह के साथ स्वागत किया गया.  

भोपाल से आईटीबीपी की साइकिल रैली ने 956 किलोमीटर की दूरी तय की. 26 सितंबर को झांसी के किले में पहुंचने पर रैली के स्वागत के लिए स्थानीय जनता द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया. मार्ग में टीम ने भारत के पहले स्वतंत्रता संग्राम के नायक मंगल पांडे के शहीद स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की. करेरा से आईटीबीपी की साइकिल रैली ने 565 किलोमीटर की दूरी तय की. 

अभियान के दौरान, साइकिल रैलियों द्वारा देश के स्वतंत्रता संग्राम से संबंधित ऐतिहासिक स्थानों का दौरा करते हुए ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत‘ का संदेश प्रदर्शित किया गया. साईकिल रैली द्वारा ग्रीन भारत मिशन के अंतर्गत मार्ग में पडने वाले विभिन्न स्थानों पर पौधरोपण अभियान भी चलाया गया तथा चिकित्सा शिविर का भी आयोजन किया गया. रैलियों द्वारा स्थानीय जनता में राष्ट्रवाद की भावना जगाने के लिए देशभक्ति संबंधी विभिन्न कार्यक्रम भी आयोजित किए गए. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


- - ये भी पढ़ें - -
* हिमाचल प्रदेश : ITBP के जवान मुश्किल हालातों में 27 किलोमीटर तक पैदल स्ट्रेचर पर लेकर आए दो शव
* लाहौल-स्पीति के ट्रेकर्स दल के 11 लोगों को ITBP ने काज़ा पहुंचाया
* अफगानिस्तान से आए 78 लोगों ने पूरा किया 14 दिन का क्वारंटाइन, ITBP केंद्र से ली विदाई