पूर्वी लद्दाख में सर्दियों के लिये भारतीय सेना ने की तैयारी, दशकों बाद चलाया इतना बड़ा ऑपरेशन

सैन्य सूत्रों ने रविवार को कहा कि शीर्ष कमांडरों के एक समूह के साथ थलसेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे इस विशाल अभियान में निजी तौर से जुड़े हुए हैं.

पूर्वी लद्दाख में सर्दियों के लिये भारतीय सेना ने की तैयारी, दशकों बाद चलाया इतना बड़ा ऑपरेशन

नई दिल्ली:

भारतीय सेना (Indian Army) कई दशकों के अपने सबसे बड़े सैन्य भंडारण अभियान के तहत पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में ऊंचाई वाले क्षेत्रों में लगभग चार महीनों की भीषण सर्दियों के मद्देनजर टैंक, भारी हथियार, गोला-बारूद, ईंधन के साथ ही खाद्य और आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में लगी हुयी है. सैन्य सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि शीर्ष कमांडरों के एक समूह के साथ थलसेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे इस विशाल अभियान में निजी तौर से जुड़े हुए हैं. इसकी शुरूआत जुलाई के मध्य में हुयी थी और अब यह पूरा होने जा रहा है. सूत्रों ने कहा कि खासी संख्या में टी -90 और टी -72 टैंक, तोपों, अन्य सैन्य वाहनों को विभिन्न संवेदनशील इलाकों में पहुंचाया गया है. इस अभियान के तहत सेना ने 16,000 फुट की ऊंचाई पर तैनात जवानों के लिए बड़ी मात्रा में कपड़े, टेंट, खाद्य सामग्री, संचार उपकरण, ईंधन, हीटर और अन्य वस्तुओं की भी ढुलाई की है.

लद्दाख में चीन के साथ तनाव के बीच LAC पर तैनात दिखे भारतीय सेना के T-90 टैंक, देखिए VIDEO

एक वरिष्ठ सैन्य अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया, "अब तक का यह सबसे बड़ा साजो-सामान (लॉजिस्टिक) अभियान है जो आजादी के बाद लद्दाख में पूरा किया गया है. यह विशाल स्तर पर है.'' भारत ने किसी भी चीनी दुस्साहस से निपटने के लिए पूर्वी लद्दाख में तीन अतिरिक्त सेना डिविजन की तैनाती की है. वहां अक्टूबर से जनवरी के बीच तापमान शून्य से नीचे पांच डिग्री सेल्सियस से शून्य से 25 डिग्री सेल्सियस नीचे के बीच रहता है.

चीन ने 3 साल में भारतीय सरहद के पास एयरबेस, एयर डिफेंस और हेलीपोर्ट की संख्या की दोगुनी : रिपोर्ट

सूत्रों ने कहा कि भारत ने यूरोप के कुछ देशों से सर्दियों के कपड़े आदि आयात किए हैं और पूर्वी लद्दाख में सैनिकों को पहले ही उनकी आपूर्ति की जा चुकी है. क्षेत्र में हजारों टन भोजन, ईंधन और अन्य उपकरणों के परिवहन के लिए सी-130 जे सुपर हरक्यूलिस और सी-17 ग्लोबमास्टर सहित भारतीय वायु सेना के लगभग सभी परिवहन विमानों और हेलीकॉप्टरों का उपयोग किया गया.


भारतीय सेना ने सर्दियों के महीनों में पूर्वी लद्दाख में सभी प्रमुख क्षेत्रों में सैनिकों की अपनी मौजूदा संख्या को बनाए रखने का फैसला किया है क्योंकि चीन के साथ सीमा विवाद के जल्द समाधान का कोई संकेत नहीं है. भारतीय वायु सेना ने भी वास्तविक नियंत्रण रेखा से लगे क्षेत्रों में हाई अलर्ट पर रहने का फैसला किया है.

चीन ने 3 साल में मिलिट्री इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाया, बॉर्डर पर डबल किए एयरबेस

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)