भारत-चीन के बीच कोर कमांडर लेवल की बातचीत शुरू, दोनों देशों ने सामने रखी हैं ये मांगें

भारत ने चीन के सामने एक बार फिर यथास्थिति को बरकरार रखने की मांग दोहराई है. भारत की मांग है कि चीन अपने सैनिको को मई के पहले हफ्ते से पहले वाली जगह पर ले जाए. वही चीन का कहना है कि भारत पहले पेंगोंग लेक के दक्षिणी इलाके से हटे.

भारत-चीन के बीच कोर कमांडर लेवल की बातचीत शुरू, दोनों देशों ने सामने रखी हैं ये मांगें

भारत-चीन के बीच कोर कमांडर लेवल के आठवें चरण की बातचीत हो रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

India China Ladakh Standoff : पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा पर चल रहे गतिरोध को लेकर कोर कमांडर लेवल की बातचीत का आठवां चरण शुक्रवार सुबह 9.30 बजे से शुरू हो गया है. आठवें दौर की यह बातचीत लद्दाख के चुशूल में हो रही है. जानकारी है कि इस चरण में भारत ने चीन के सामने एक बार फिर यथास्थिति को बरकरार रखने की मांग दोहराई है. भारत की मांग है कि चीन अपने सैनिकों को मई के पहले हफ्ते से पहले वाली जगह पर ले जाए. वही चीन का कहना है कि भारत पहले पेंगोंग लेक के दक्षिणी इलाके से हटे.

दरअसल, भारत ने पैंगोंग लेक के इस इलाके की रणनीतिक चोटियों पर तब कब्जा किया था, जब चीन की सेना ने भारत की सेना को फिंगर 4 से आगे पेट्रोलिंग करने नही दिया. इस इलाके में मौजूद होने से भारत को अपनी स्थिति में बढ़त मिली है. 

यह भी पढ़ें : कोरोना की चिंता, चीन ने वीजा या रेसीडेंट परमिट पर भारत से आने वाले विदेशियों की एंट्री पर लगाई रोक

12 अक्टूबर को हुई पिछली बातचीत में भी चीन ने आंशिक तौर पर हटने का प्रस्ताव रखा था जिसके लिए भारत ने मना कर दिया है. 

बता दें कि मई के पहले हफ्ते से पूर्वी लद्दाख में दोनो देशों की सेनाएं आमने सामने हैं. दोनों देशों के बीच चल रहे इस विवाद को पूरे सात महीने हो गए हैं. इस दौरान सात चरणों की बातचीत भी हो गई है, लेकिन कूटनीतिक और सैन्य बातचीत के बावजूद अभी तक कोई समाधान नहीं निकल पाया है.

Video: भारत के मामले में न बोले चीन : विदेश मंत्री एस जयशंकर


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com