'कोरोना वायरस महामारी के दौरान भारत ने उठाए निर्णायक कदम', IMF चीफ ने की सराहना

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष 26 जनवरी को अपना विश्व आर्थिक अपडेट रिपोर्ट जारी करने वाला है. भारत के बारे में बात करते हुए, उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी आबादी के लिए लॉकडाउन लागू करना बेहद नाटकीय था, जहां लोग एक साथ इतने करीब से जुड़े थे.

'कोरोना वायरस महामारी के दौरान भारत ने उठाए निर्णायक कदम', IMF चीफ ने की सराहना

IMF चीफ क्रिस्टालिना जॉर्जीवा ने कोरोनावायरस महामारी और इसके आर्थिक परिणामों से निपटने के लिए भारत द्वारा उठाए गए निर्णायक कदमों की सराहना की है

वाशिंगटन:

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) की प्रमुख क्रिस्टालिना जॉर्जीवा ने कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी और इसके आर्थिक परिणामों से निपटने के लिए भारत द्वारा उठाए गए निर्णायक कदमों की सराहना की है और देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए इस साल और अधिक प्रयास करने के लिए कहा है.

आईएमएफ की प्रबंध निदेशक ने गुरुवार को एक वैश्विक मीडिया राउंडटेबल डिस्कशन के दौरान आगामी वैश्विक आर्थिक परिस्थितियों में भारत के लिए कम खराब दृष्टिकोण की भविष्यवाणी की और कहा कि ऐसा भारत द्वारा उठाए गए आर्थिक सुधार के कदमों के कारण है.

IMF प्रमुख ने डॉ. प्रणय रॉय से कहा, ''स्टिमुलस बढ़ने से निश्चित तौर पर भारत को मदद मिलेगी''

IMF प्रमुख ने कहा, “जब मैंने सभी को 26 जनवरी तक स्थिति बरकरार रखने का आह्वान किया, जो भारत के लिए बहुत मायने रखता है. आपको हमारे अपडेट में एक तस्वीर दिखाई देगी जो कम खराब है. क्यों? क्योंकि इस देश ने वास्तव में महामारी से निपटने के लिए और इसके आर्थिक परिणामों से निपटने के लिए बहुत ही निर्णायक कदम उठाए हैं.

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष 26 जनवरी को अपना विश्व आर्थिक अपडेट रिपोर्ट जारी करने वाला है. भारत के बारे में बात करते हुए, उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी आबादी के लिए लॉकडाउन लागू करना बेहद नाटकीय था, जहां लोग एक साथ इतने करीब से जुड़े थे.


GDP ग्रोथ और Covid-19 की स्थिति पर राहुल गांधी ने किया ट्वीट, मोदी सरकार की नीतियों पर उठाए सवाल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने कहा, "सरकार ने मौद्रिक नीति और राजकोषीय नीति के लिए जो किया है वह सराहनीय है. यह वास्तव में उभरते बाजारों के लिए औसत से थोड़ा अधिक है. उभरते बाजारों ने औसतन जीडीपी का छह प्रतिशत योगदान दिया है. भारत में, यह थोड़ा ऊपर है. यह भारत के लिए अच्छा है और वहां अभी भी बेहतर करने की गुंजाइश है- CHECK - यदि आप अधिक कर सकते हैं, तो कृपया जरूर करें."