भारत विरोधी फर्जी खबरें फैलाने पर पाकिस्‍तान स्थित 35 यूट्यूब चैनल ब्‍लॉक किए गए : केंद्र

सूचना और प्रसारण मंत्रालय के अनुसार, 'जिन अकाउंट्स ब्‍लॉक किया गया है उनमें भारतीय सशस्‍त्र बलों, कश्‍मीर, भारत के अन्‍य देशों के साथ संबंध और पूर्व चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ जनरल बिपिन रावत की मौत से संबंधित कंटेंट था.'

भारत विरोधी फर्जी खबरें फैलाने पर पाकिस्‍तान स्थित 35 यूट्यूब चैनल ब्‍लॉक किए गए : केंद्र

प्रतीकात्‍मक फोटो

नई दिल्‍ली :

सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने गलत सूचनाएं फैलाने के लिए गुरुवार को 35 यूट्यूब चैनलों, दो ट्विटर अकाउंट्स, दो इंस्‍टाग्राम अकाउंट्स, दो  वेबसाइट और एक फेसबुक अकाउंट को ब्‍लॉक कर‍ दिया है.  सूचना और प्रचारण विभाग के संयुक्‍त सचिव विक्रम सहाय ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. उन्‍होंने बताया, 'इस सभी अकाउंट्स में यह आमबात है कि ये पाकिस्‍तान से संचालित हो रहे और भारत के खिलाफ फर्जी खबरें और अन्‍य कंटेंट फैला रहे हैं. ' मंत्रालय ने इस भी अकाउंट्स को ब्‍लॉक करने के लिए दूरसंचार विभाग के माध्‍यम से संबंधित सोशल मीडिया मध्‍यवर्ती संस्‍थाओं (social media intermediaries)और इंटरनेट सर्विस प्रदाताओं को आदेश जारी किए हैं. सूचना और प्रसारण मंत्रालय के अनुसार, 'जिन अकाउंट का ब्‍लॉक किया गया है उनमें भारतीय सशस्‍त्र बलों, कश्‍मीर, भारत के अन्‍य देशों के साथ संबंध और पूर्व चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ जनरल बिपिन रावत की मौत से संबंधित कंटेंट था. ' विक्रम सहाय के अनुसार, 'ब्‍लॉक किए गए सोशल मीडिया अकाउंट्स के 1.2 करोड़ सब्‍सक्राइर्ब्‍स  के साथ 130 करोड़ ब्‍यूअर्स थे.  'मंत्रालय की ओर से ब्‍लॉक किए गए सभी अकाउंट पाकिस्‍तान से संचालित हो रहे थे .

सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने पिछले साल दिसंबर में भी खुफिया एजेंसियों के साथ एक समन्वित प्रयास में 20 यूट्यूब चैनल और दो वेबसाइट को अवरुद्ध (ब्लॉक) करने का आदेश दिया था, क्योंकि वे भारत विरोधी दुष्प्रचार और फर्जी खबरें फैला रहे थे.मंत्रालय ने कहा था, 'ये 20 यूट्यूब चैनल और वेबसाइट पाकिस्तान से संचालित एक समन्वित दुष्प्रचार नेटवर्क से संबंधित हैं तथा भारत से संबंधित विभिन्न संवेदनशील विषयों के बारे में फर्जी खबरें फैला रहे थे.'

सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने बुधवार को ही चेतावनी दी थी कि सरकार देश के खिलाफ ‘‘साजिश रचने'' वालों के खिलाफ कार्रवाई जारी रखेगी. इस मुद्दे पर सवालों के जवाब में ठाकुर ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘मैंने उनके खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया था... मुझे खुशी है कि दुनियाभर के कई बड़े देशों ने इसका संज्ञान लिया. यूट्यूब भी आगे आया और उन्हें ब्लॉक करने के लिए कार्रवाई की.''

26 जनवरी परेड : कोरोना के चलते कार्यक्रम में कई बदलाव, वैक्सीनेशन सर्टिफ़िकेट दिखाने पर ही एंट्री

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com