EPFO ने जोड़े जनवरी 2021 में 13.36 लाख नये अंशधारक, 4 माह में 62 लाख से ज्यादा...

कोविड-19 (Covid-19 infection) महामारी के बावजूद, EPFO ने चालू वित्त वर्ष के दौरान लगभग 62.49 लाख ग्राहक जोड़े.

EPFO ने जोड़े जनवरी 2021 में 13.36 लाख नये अंशधारक, 4 माह में 62 लाख से ज्यादा...

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नयी दिल्ली:

निजी क्षेत्र के श्रमिकों की भविष्य निधि (Provident Fund) का प्रबंध करने वाले संगठन ईपीएफओ (EPFO) ने जनवरी 2021 में 13.36 लाख नए सदस्य जोड़े. ये आंकड़े श्रम और रोजगार मंत्रालय ने जारी किये. पेरोल डेटा के मुताबिक कोविड-19 (Covid-19 infection) महामारी के बावजूद, EPFO ने चालू वित्त वर्ष के दौरान लगभग 62.49 लाख ग्राहक जोड़े.  20 मार्च 2021 को प्रकाशित ईपीएफओ का प्रोविजनल पेरोल डेटा के मुताबिक जनवरी 2021 के महीने के दौरान 13.36 लाख नये सदस्य जोड़े गये जो ग्राहक आधार की बढ़ती प्रवृत्ति को भी दर्शाती है.

PF डिपॉजिट पर 8.5 फीसदी ब्याज, चीफ लेबर कमिश्नर बोले- 5 करोड़ खाताधारकों को मिलेगा फायदा

आंकड़े दिसंबर 2020 के मुकाबले जनवरी, 2021 तक के 24% की बढ़ोतरी देखी गई. पेरोल डेटा की साल-दर-साल तुलना नेट ग्राहकों में 27.79% की वृद्धि दर्शाती है, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में कोरोना से पहले ईपीएफओ के लिए ग्राहकों के बढ़ते स्तर कोरोना के पहले जैसे लौटने के संकेत है.

इससे पहले ईपीएफओ (EPFO) ने नवंबर 2020 में 10.11 लाख नए सदस्य जोड़े थे. तब ईपीएफओ ​​ने चालू वित्त वर्ष (अप्रैल से नवंबर, 2020 तक) करीब 45.29 लाख नए सदस्य जोड़े थे.

साथ ही साथ आपको बता दें कि उम्र के आधार पर नवंबर 2020 माह में सबसे ज्यादा जुड़ने वाले नए सदस्य 22-25 वर्ष के हैं जिसकी संख्या 2.72 लाख है. उसके बाद 18-21 वर्ष के लोग थे जिनकी संख्या 2,21 लाख थी. 18-25 आयु वर्ग के सदस्यों को श्रम बाजार में नए रोजगार के रूप में देखा जा सकता है और नवंबर, 2020 में इन नए सदस्यों द्वारा लगभग 48.72 प्रतिशत का योगदान दिया गया था. 

कोरोना का असर: EPFO के पास शुद्ध नये नामांकन में नवंबर में आयी कमी

नए सदस्यों में महिलाओं की हिस्सेदारी अक्टूबर, 2020 में 21.64 प्रतिशत और नवंबर, 2020 में 22.40 प्रतिशत हो गई थी. नवंबर, 2020 माह में ईपीएफ योजना में कुल 6.41 लाख शुद्ध सदस्य शामिल हुए जिनमें महिलाओं की कुल संख्या 1.43 लाख थी.

Video : ईपीएफओ के ब्याज में कोई बदलाव नहीं, 8.5 फीसदी ही रहेगी दर


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com