देश में कोरोना केस हो रहे कम लेकिन दो राज्‍य अभी भी बने हुए हैं चिंता का विषय

देश के कुल एक्टिव केसों के मामले में केरल की हिस्‍सेदारी 44.97%, महाराष्‍ट्र की 27.31% है.देश में अब तक हुए कोरोना टेस्‍ट की संख्‍या 20 करोड़ के पार पहुंच गई है.

देश में कोरोना केस हो रहे कम लेकिन दो राज्‍य अभी भी बने हुए हैं चिंता का विषय

स्‍वास्‍थ्‍य सचिव राजेश भूषण ने बताया देश में कोरोना टेस्‍ट की संख्‍या 20 करोड़ के पार पहुंच गई है

नई दिल्ली:

Covid-19 cases updates in india : देश में कोरोना के नए मामलों की संख्‍या (New corona cases in India) में भले ही कमी आई है लेकिन दो राज्‍य अभी भी चिंता का कारण बने हुए हैं. ये दो राज्‍य हैं केरल (Kerala) और महाराष्‍ट्र (Maharashtra). देश में कोरोना के कुल एक्टिव मामलों का 72 प्रतिशत इन्‍हीं दो राज्‍यों से है. केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में बताया कि केरल में इस समय कोराना के 61,550और महाराष्‍ट्र में 37,383 केस है. समग्र रूप में देखें तो देश में अब तक कोरोना संक्रमण के 1.09 करोड़ मामले सामने आए हैं जबकि देश में एक्टिव केसों की संख्‍या फिलहाल 1.36 लाख (Active corona cases in India) है.

कोरोना से जान गंवाने वाले पत्रकारों के परिजनों को केंद्र सरकार देगी आर्थिक सहायता

देश के कुल एक्टिव केसों के मामले में केरल की हिस्‍सेदारी 44.97%, महाराष्‍ट्र की 27.31% और कर्नाटक की 4.23% है. केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य सचिव ने बताया कि देश में अब तक 87,40,595 टीके लग चुके हैं, इसमें से 5,69,917 को पहला टीका जबकि 1,70,687 को दूसरा टीका भी लग चुका है. इसमें स्वास्थ्य कर्मी- 62,82,646 (पहली डोज़- 61,11,968 (60.5%)
दूसरी डोज़- 1,70,678 (37.5% ऑफ eligible)) है जबकि फ्रंटलाइन वर्कर 24,57,949 (26.3%) हैं. स्वास्थ्य सचिव के मुताबिक ये असंतोषप्रद आंकड़े नहीं हैं.

कागज-कपड़े की तुलना में कांच और प्लास्टिक पर ज्‍यादा समय तक जिंदा रहता है वायरस: स्‍टडी

देश में अब तक हुए कोरोना टेस्‍ट की संख्‍या 20 करोड़ के पार पहुंच गई है. प्रति मिलियन (10 लाख) टेस्‍ट का औसत 1,50,240  है जबकि प्रति मिलियन, मौत का औसत 112 है. प्रति मिलियन कोरोना केसों का औसत 7917 है. बीते 24 घंटों की बात करें तो केरल में 2884 और महाराष्‍ट्र में 3365 नए केसा सामने आए हैं. इन दोनों राज्‍यों में केंद्रीय टीमें, कोरोना पर नियंत्रण के लिए राज्‍यों के साथ लगी हुई हैं.स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अनुार, 14 राज्यों में 70% से ज़्यादा स्वास्थ्य कर्मी को पहला टीका लग चुका है, इसमें बिहार (80.92%), मध्‍यप्रदेश (75.16%), उत्‍तर प्रदेश (73.58%), राजस्थान (70.09%) और केरल (71.28%) शामिल हैं. 11 राज्यों में 50% से कम स्वास्थ्य कर्मियों को पहला टीका लगा हैं, इन राज्‍यों में कर्नाटक (49.96), दिल्ली (42.36%), पंजाब (36.42%), तमिलनाडु (37.28%) शामिल हैं. इसी क्रम में 8 राज्यों ने 60% से ज़्यादा एलिजिबल स्वास्थ्य कर्मियों को दूसरी डोज़ लग चुका है, इसमें गोआ (100%), गुजरात (86%), यूपी (81.2%) प्रमुख हैं. आठ राज्यों ने 40% से ज़्यादा फ्रंट लाइन वर्कर को पहला टीका दिया, इसमें राजस्थान (70.38%), मध्‍य प्रदेश (61.92%), ओडिशा (56.75%) और गुजरात (45.19%) शामिल हैं.10 राज्यों/यूटी में 10% से कम फ्रंट वर्कर को टीके लगे, इसमें असम (0) और चंडीगढ़ (9.47%) शामिल हैं.


कोरोना : 20 से 49 साल के लोग ज्यादा खतरनाक!

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com