कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कोरोना संकट पर पीएम को लिखा खत, दिए 6 अहम सुझाव

भारत कोरोना की दूसरी लहर को काबू करने के लिए जूझ रहा है. लगातार चार दिनों से 4 लाख से ज्यादा नए मामले रिपोर्ट हो रहे हैं. जबकि 22 अप्रैल के बाद से लगातार 3 लाख से ज्यादा कोरोना के केस सामने आए हैं. 

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कोरोना संकट पर पीएम को लिखा खत, दिए 6 अहम सुझाव

भारत में कोरोना के एक्टिव केस की संख्या 37.4 लाख तक पहुंच गई है, जो पिछले रिकॉर्ड से करीब चार गुना हैं. (फाइल)

नई दिल्ली:

कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे (Congress MP Mallikarjun Kharge ) ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Prime Minister Narendra Modi ) को एक पत्र लिखा है, इसमें कोरोना की दूसरी लहर को काबू में करने के लिए 6 अहम सुझाव दिए गए हैं. खड़गे ने कहा है कि कोरोना से संक्रमित अपनों के इलाज के लिए लोग जमीन, ज्वैलरी बेचने के साथ अपनी गाढ़ी कमाई लुटा रहे हैं. राज्यसभा में नेता विपक्ष खड़गे ने प्रधानमंत्री से सामूहिक और सहमति वाली रणनीति अपनाने की अपील की है. उन्होंने कहा कि सिविल सोसायटी और नागरिक समूह इस असाधारण राष्ट्रीय संकट के खिलाफ लड़ रहे हैं, जबकि केंद्र ने ऐसा लगता है कि अपनी जिम्मेदारियां छोड़ दी हैं.

खड़गे ने पत्र में पीएम से एक सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग की है, जिसमें महामारी से लड़ने का एक समग्र ब्लूप्रिंट तैयार किया जाए. साथ ही कोविड वैक्सीन के लिए आवंटित 35 हजार करोड़ रुपये का सबके टीकाकरण के लिए उचित तरीके से इस्तेमाल किया जा सके. खड़गे ने वैक्सीन के उत्पादन के लिए अनिवार्य लाइसेंसिंग की नीति भी खत्म करने को कहा है. साथ ही सभी संवेदनशील चिकित्सा उपकरणों, वैक्सीन(5 फीसदी), पीपीई किट (5 से 12 फीसदी), एंबुलेंस (28 फीसदी) और ऑक्सीजन कंसेन्ट्रेटर्स (12 फीसदी) पर टैक्स खत्म करने की मांग भी की है.


कर्नाटक के कांग्रेस नेता ने विदेशों से आई राहत सामग्री का भी जल्द से जल्द वितरण की मांग भी उठाई है. साथ ही रोजगार खो चुके प्रवासी मजदूरों के लिए मनरेगा में न्यूनतम कार्यदिवस 100 से बढ़ाकर 200 दिन करने की मांग की है. यह पत्र कांग्रेस नेताओं की ओर से प्रधानमंत्री को की गई तीसरी अपील है. इससे पहले लोकसभा सांसद राहुल गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी पत्र लिख चुके हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


भारत कोरोना की दूसरी लहर को काबू करने के लिए जूझ रहा है. लगातार चार दिनों से 4 लाख से ज्यादा नए मामले रिपोर्ट हो रहे हैं. जबकि 22 अप्रैल के बाद से लगातार 3 लाख से ज्यादा कोरोना के केस सामने आए हैं. भारत में कोरोना के एक्टिव केस की संख्या 37.4 लाख तक पहुंच गई है, जो पिछले रिकॉर्ड से करीब चार गुना हैं.