दीवाली ने छुड़ाए दिल्लीवालों के 'आंसू', गले में खारिश, आंखों से पानी आने की दिक्कत झेल रहे लोग

शहर और इसके आसपास के इलाकों में लोगों ने गले में खुजली और आंखों में पानी आने की शिकायत की. बता दें कि दिल्ली सरकार ने पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध लगा रखा था, बावजूद लोगों ने खूब पटाखे फोड़े.

दीवाली ने छुड़ाए दिल्लीवालों के 'आंसू', गले में खारिश, आंखों से पानी आने की दिक्कत झेल रहे लोग

शुक्रवार सुबह हवा की गुणवत्ता 'खतरनाक' श्रेणी में पहुंची

दिल्ली:

दीवाली में राष्ट्रीय राजधानी में जमकर पटाखे फोड़े गये, जिसका नतीजा रहा कि शुक्रवार सुबह हवा की गुणवत्ता 'खतरनाक' श्रेणी में पहुंच गई . चारों ओर हवा का काला धुंध छाया हुआ था. शहर और इसके आसपास के इलाकों में लोगों ने गले में खारिश और आंखों में पानी आने की शिकायत की. बता दें कि दिल्ली सरकार ने पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध लगा रखा था, बावजूद लोगों ने खूब पटाखे फोड़े.

शहर का एयर क्वालिटी इनडेक्स कल शाम 4 बजे 382 स्तर पर था, वह रात 8 बजे तक कम तापमान और हवा की गति के कारण गंभीर श्रेणी में प्रवेश कर गया. शुक्रवार सुबह शहर के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में एयर क्वालिटी इनडेक्स 999 स्तर पर था. वहीं फरीदाबाद में 424, गाजियाबाद में 442, गुड़गांव में 423 और नोएडा में 431 के स्तर पर एयर क्वालिटी इनडेक्स मापा गया. इन इलाकों में रात नौ बजे के बाद तक लोग पटाखे फोड़ते रहे. 

दीवाली ने निकाला 'दिल्ली-NCR का दम', लुटियन जोन्स में भी 'खतरनाक' श्रेणी में पहुंची हवा; धुंध की मोटी चादर

बता दें कि शून्य से 50 के बीच एक्यूआई को 'अच्छा', 51 और 100 को 'संतोषजनक', 101 और 200 को 'मध्यम', 201 और 300 को 'खराब', 301 और 400 के बीच 'बहुत खराब' और 401 और 500 को 'गंभीर' माना जाता है. 


दिवाली पर सरकार ने जनता को दी राहत, पेट्रोल-डीजल पर घटी एक्साइज ड्यूटी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com