ऊंची पॉजिटिविटी वाले 62 फीसदी जिले पूर्वोत्तर राज्यों के, शीर्ष अधिकारी लेंगे हालात का जायज़ा

पूर्वोत्तर के राज्यों में कोरोना के कहर के बीच स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी बैठक करेंगे और स्थिति की समीक्षा करेंगे. इस बैठक में नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल भी मौजूद रहेंगे.

ऊंची पॉजिटिविटी वाले 62 फीसदी जिले पूर्वोत्तर राज्यों के, शीर्ष अधिकारी लेंगे हालात का जायज़ा

पूर्वोत्तर राज्यों में कोरोना की स्थिति चिंताजनक (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामलों में लगातार गिरावट देखी जा रही है. मई की शुरुआत में चार लाख से ऊपर आ रहे नए मामले अब घटकर 35 हजार के नीचे आ गए हैं. इस बीच, कुछ राज्यों में कोविड-19 के मामले चिंता बढ़ा रहे हैं. इनमें पूर्वोत्तर के राज्य शामिल हैं. जिन 77 जिलों में संक्रमण दर यानी पॉजिटिविटी रेट (Positivity Rate) 10 प्रतिशत से ऊपर है, उनमें नॉर्थ ईस्ट के 48 जिले शामिल हैं. नार्थ ईस्ट में कोरोना के मामले चिंता का विषय बने हुए हैं. इसी को देखते हुए शीर्ष अधिकारी पूर्वोत्तर की समीक्षा करेंगे. 

ऊंची पॉजिटिविटी रेट वाले जिलों में 62 फीसदी जिले पूर्वोत्तर के हैं. 77 जिलों में संक्रमण दर 10 फीसदी से ऊपर है. इन 77 जिलों में 48 जिले पूर्वोत्तर के हैं, जिनमें संक्रमण दर 10 प्रतिशत से ज्यादा है. 

स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों की बैठक में नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल,एनसीडीसी के निदेशक सुजीत सिंह शामिल होंगे और स्थिति का जायजा लेंगे. 

पूर्वोत्तर के जिन 48 जिलों में पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत से ऊपर है, उनमें अरुणाचल प्रदेश के 19, मणिपुर के 8, मेघालय के 7, नागालैंड के 4, सिक्किम के 4, त्रिपुरा के 4 और असम के 2 जिले शामिल हैं. भारत में सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट अरुणाचल प्रदेश के ईस्ट खेमांग में है, यहां संक्रमण दर 86.67 प्रतिशत है. 


वीडियो: देश में 77 जिलों में संक्रमण दर अब भी 10% से ज्यादा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com