विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jul 15, 2018

बच्चों में नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लिवर की बीमारी के ये हैं 4 कारण

बच्चे जहां अब बुखार, फ्लू, सर्दी, टायफाइड जैसी बीमारियों से प्रभावित नहीं होते वहीं कुछ बच्चों में नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लिवर की समस्या आम हो गई है.

Read Time: 3 mins
बच्चों में नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लिवर की बीमारी के ये हैं 4 कारण
नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लिवर के नहीं पता लगते लक्षण
 
mt45e0dxri

 


1. जंक फूड पर निर्भरता 
अगर आप बच्चों के सामने पिज्जा और हरी सब्जी बनी डिश रखेंगे तो हम दावा कर सकते हैं कि वो पिज्जा ही खाएंगे. बच्चों के पिज्जा बर्गर, नूडल, पास्ता समेत ज़्यादातर जंक फूड पसंदीदा होते हैं. वो अपने स्वास्थ्य को लेकर इतने जागरुक नहीं होते कि शरीर के लिए ज़रूरी प्रोबायोटिक फूड का सेवन करें. जंक फूड पर निर्भरता उनकी सेहत को नुकसान पहुंचाती है. इन जंक फूड्स की वज़ह से बच्चे नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लीवर जैसी बीमारी की चपेट में आ सकते हैं. जंक फूड्स से सिर्फ कैलोरी ही शरीर को मिलती है, पोषक तत्व नहीं, ऐसे में उनका वज़न बढ़ने लगता है. इसाथ ही इन जंक फूड्स में ऐसे हानिकारक तत्व भी मौजूद होते हैं जो बाद में गंभीर बीमारियों के कारक बन सकते हैं. 

 
gril436tbb9


Photo Credit: iStock

2. बच्चों में मोटापा
बच्चों में मोटपा नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लिवर का मुख्य कारण बन सकता है. इसके साथ ही ये अन्य स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानियां भी पैदा कर सकता है. आहार संबंधी आदतों, पोषण की कमी और किसी भी तरह के शारीरिक व्यायाम नहीं होने के कारण बच्चों में मोटापा बढ़ जाता है. शरीर में मौजूद ज्यादा वसा आपको काम करने से रोकता है. इससे शरीर के मैटाबॉलिज्म में कमी आती है यहां तक की बाद में इंसुलिन प्रतिरोधक क्षमता भी कम हो जाती है. 

 
m8jbyb9u7z


Photo Credit: iStock

3. पूर्व मधुमेह की स्थिति
गलत खाने की आदतें और शारीरिक व्यायाम की कमी की वज़ह से छोटी उम्र में ही शरीर केस टाइप -2 मधुमेह से ग्रस्त हो सकता है! ये बच्चों में नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लिवर के कारकों में से एक है. मधुमेह या पूर्व मधुमेह से पीड़ित बच्चे भी इस बीमारी से ग्रस्त हो सकते हैं. 

4. व्यायाम की कमी
प्ले स्टेशन पर गेम्स खेलने की वज़ह से बच्चों में अब बाहर खेलने की आदत कम होने लगी है, जिस वज़ह से उनका शरीर किसी तरह की कसरत में शामिल नहीं हो पाता. व्यायाम की कमी की वज़ह से बच्चों के शरीर में वसा की मात्रा बढ़ जाती है और शरीर मोटापे का शिकार हो जाता है, इससे बच्चों में नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लिवर की बीमारी होने का ख़तरा बढ़ जाता है. 

b2dgmvv0lr4


स्पष्टीकरण: ये ख़बर बीमारी से जुड़ी सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी चिकित्सकीय राय उपलब्ध नहीं कराती है. इस बीमारी से संबंधित जानकारी के लिए डॉक्टर से परामर्श लें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है. 

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Fatty Liver Cause and Symptoms: फैटी लिवर क्या होता है, क्या हैं इसके कारण और लक्षण, शरीर के इन अंगो पर भी पड़ता है प्रभाव
बच्चों में नॉन एल्कोहॉलिक फैटी लिवर की बीमारी के ये हैं 4 कारण
non-alcoholic fatty liver disease, know symptoms and prevention
Next Article
नॉन-एल्कोहोलिक फैटी लीवर के क्या कारण हैं? जानिए इसके लक्षण और बचाव के तरीके
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;