Benefits Of Turmeric: अर्थराइटिस के दर्द से छुटकारा पाने के लिए अपनी डाइट में हल्दी को शामिल करें

Benefits Of Turmeric: हल्दी एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन सी, आयरन और फाइबर के गुणों से भरपूर है. हल्दी का सेवन करना इम्यूनिटी और मेटाबॉलिज्म के लिए अच्छा माना जाता है.

Benefits Of Turmeric: अर्थराइटिस के दर्द से छुटकारा पाने के लिए अपनी डाइट में हल्दी को शामिल करें

Experts Reveal: हल्दी घुटने के पुराने दर्द और जोड़ों के दर्द का इलाज करने में भी मदद कर सकती है.

खास बातें

  • हल्दी घुटने के पुराने दर्द और जोड़ों के दर्द का इलाज में मदद कर सकती है.
  • हल्दी इम्यूनिटी और मेटाबॉलिज्म के लिए अच्छी मानी जाती है.
  • हल्दी में विटामिन सी पाया जाता है.

Benefits Of Turmeric: यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि हल्दी हमारे मसाले के रैक में एक वंडर मसाला है. एक चुटकी हल्दी हमारे खाने के कलर को बदलने से लेकर पोषण देने तक का काम करती है. यह एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन सी, आयरन और फाइबर के गुणों से भरपूर है. हल्दी इम्यूनिटी और मेटाबॉलिज्म के लिए अच्छी मानी जाती है. हल्दी के लाभों की लिस्ट लंबी है. एक नए अध्ययन में पाया गया है, कि हल्दी घुटने के पुराने दर्द और जोड़ों के दर्द का इलाज करने में भी मदद कर सकती है. यह जानकारी पत्रिका एनल्स ऑफ इंटरनल मेडिसिन में प्रकाशित की गई थी

ऑस्ट्रेलिया के तस्मानिया विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के रिसर्च के अनुसार, हल्दी गठिया से संबंधित घुटने के दर्द से राहत दिलाने के सबूत दिखाए हैं. यह 12 सप्ताह के लिए छोटे आकार का शोध था, इसमें पुराने घुटने के दर्द और ऑस्टियोआर्थराइटिस के 70 प्रतिभागियों को शामिल किया गया था.

रिसर्च के अंत में यह पाया गया कि हल्दी ने घुटने के दर्द को काफी कम कर दिया है. हालांकि, शोधकर्ताओं ने कहा, "निष्कर्षों के ​​महत्व का आकलन करने के लिए बड़े आकार वाले परीक्षणों की आवश्यकता है.

Foods For Strong Bones: हड्डियों को स्ट्रॉन्ग बनाने में मददगार हैं ये 4 फूड्स!

46ia7haoहल्दी इम्यूनिटी को बढ़ाने में मदद करती है. 

रिसर्च के निष्कर्षों के बारे में बात करते हुए, सलाहकार पोषण विशेषज्ञ रूपाली दत्ता ने कहा कि हल्दी में मौजूद करक्यूमिन एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर होता है. यह गठिया से संबंधित दर्द को कम करने में मदद करता है. "गठिया में पूरे जोड़ों में सूजन हो जाती है, जिससे दर्द और जकड़न हो जाती है. हल्दी के एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण सूजन को कम करने या नियंत्रित करने में मदद करते हैं, जिससे जोड़ों में कठोरता कम हो जाती है. इस मसाले का उपयोग आयुर्वेद और पारंपरिक चिकित्सा में सदियों से किया जाता है. इसके अलावा , दुनिया भर में कई वैज्ञानिक अध्ययनों ने भी हल्दी के स्वास्थ्य लाभों को समय-समय पर साबित किया है."

दत्ता ने आगे सिफारिश है, कि किसी को हल्दी की खुराक या गोलियों का सहारा नहीं लेना चाहिए; इसके बजाय, मसाले को अपने दैनिक आहार में स्वाभाविक रूप से शामिल करना हमेशा एक बेहतर विचार है. "हम आम तौर पर हल्दी को अपने रोजमर्रा के खाना पकाने में इस्तेमाल करते हैं. हल्दी डिटॉक्स पानी या हल्दी दूध के लाभों के लिए इसे पानी में भी मिला सकते हैं. प्रतिदिन एक से दो ग्राम हल्दी आपके दैनिक उपभोग के लिए पर्याप्त है. हल्दी में कुछ काली मिर्च को शामिल कर सकते हैं. जो आपके ड्रिंक को और बेहतर बनाने में मदद कर सकता है. 

फूड की और खबरों के लिए जुड़े रहें.

Experts Reveal: तुलसी और अश्वगंधा की चाय डिप्रेशन और एंजायटी को कम करने में मददगार!

Custard Apple Rabdi Recipe: इम्यूनिटी और एसिडिटी के लिए फायदेमंद है कस्टर्ड एप्पल रबडी डेज़र्ट

Indian Cooking Tips: स्वाद ही नहीं सेहत का खजाना है नाशपाती की चटनी!

Thyroid Diet Foods: थायराइड से बचने के लिए डाइट में शामिल करें ये 5 फूड्स

Vitamin E Rich Foods: विटामिन ई की कमी को दूर करने के लिए इन 5 फूड्स का सेवन करें!

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


How To Increase Breast Milk: मां के दूध को नेचुरल तरीके से बढ़ाने के लिए इन 7 चीजों को डाइट में करें शामिल!