विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Aug 26, 2011

रिव्यू : एवरेज फिल्म है 'शबरी'

Read Time: 2 mins
Mumbai: रामगोपाल वर्मा की 'शबरी' का जो पांच साल से रिलीज का इंतजार कर रही थी। 98 मिनट की ये कहानी है मुंबई की झोपड़पट्टी में आटा चक्की चलाने वाली मेहनती लड़की 'शबरी' की पुलिस जिसके निर्दोष भाई की जान ले लेती है। और फिर…बदले की आग में सुलगती शबरी खुद को पाती है पुलिस और अंडरवर्ल्ड के बीच। फिल्म धीमी शुरुआत लेती है लेकिन इस क्राइम फिल्म में राइटर डायरेक्टर ललित मराठे ने डर और दहशत का वो सारा माहौल गंभीरता से मेन्टेन किया है जो रामगोपाल वर्मा की फिल्मों की खासियत रही है। 'शबरी' के रूप में ईशा कोप्पीकर का ये लाइफटाइम रोल है। बैकग्राउंड म्यूजिक का खूबसूरती से इस्तेमाल। राज, अर्जुन और प्रदीप रावत के अच्छे परफॉरमेंस। बेहतरीन डायरेक्शन लेकिन शबरी दो जगह मात खाती है। एक तो इसकी कहानी में नयापन नहीं है। दूसरे हम इस बात पर यकीन नहीं कर पाते कि कैसे आटा पीसने वाली एक साधारण-सी लड़की रातों-रात पुलिस और अंडरवर्ल्ड को नाच नचा देती है। इस नाते शबरी एवरेज फिल्म है। और इसके लिए मेरी रेटिंग है 2.5 स्टार।

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Bigg Boss OTT 3 House Inside Photos: अंदर से ऐसा दिखता है बिग बॉस ओटीटी 3 हाउस, देखें जिम से लेकर किचन तक की फोटो
रिव्यू : एवरेज फिल्म है 'शबरी'
कौन होते हैं मुंज्या? जिसकी कहानी बॉक्स ऑफिस पर मचा रही तहलका
Next Article
कौन होते हैं मुंज्या? जिसकी कहानी बॉक्स ऑफिस पर मचा रही तहलका
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;