चीन के वैज्ञानिकों के साथ कोविड-19 की उत्‍पत्ति के बारे में खुलकर बात हुई : WHO टीम लीडर

पीटर बेन एम्‍बरेक ने अपनी WHO की टीम के वुहान लैब के दौरे के एक दिन बाद बताया कि इस बातचीत में वैश्विक मीडिया की ओर से अपनी रिपोर्ट में किए गए दावों पर भी चर्चा हुई.

चीन के वैज्ञानिकों के साथ कोविड-19 की उत्‍पत्ति के बारे में खुलकर बात हुई : WHO टीम लीडर

वुहान की लैब में विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की टीम

वुहान (चीन):

''विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) के निरीक्षकों की कोरोना महामारी के स्रोत के साथ ही चीन के एक शहर के लैब से इसके लीक होने संबंधी ''दावों'' के बारे में चीनी वैज्ञानिकों से विस्‍तार से बात हुई है.'' वुहान में इस जांच के प्रमुख ने न्‍यूज एजेंसी AFP को यह जानकारी दी. पीटर बेन एम्‍बरेक ने अपने और अपनी WHO की टीम के वुहान लैब (Wuhan lab) के दौरे के एक दिन बाद इंटरव्‍यू में बताया कि इस बातचीत में वैश्विक मीडिया की ओर से अपनी रिपोर्ट में किए गए दावों पर भी चर्चा हुई. हालांकि उन्‍हें इस बारे में कोई पुख्‍ता जानकारी नहीं मिली. एम्‍बरेक ने बताया कि इनमें से कुछ ने इसे तर्कहीन बताया और इस बात पर जोर दिया कि जांचकर्ताओं को इस तरह के ''आधारहीन'' दावों की तफ्तीश में अपना समय बरबाद नहीं करना चाहिए. यूएन हेल्‍थ एजेंसी से जुड़े वैज्ञानिक ने वुहान से टेलीफोन पर बताया, 'बातचीत खुलकर हुई.' गौरतलब है कि चीन के वुहान शहर में ही दिसंबर 2019 में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया था.

कोरोना वैक्‍सीन आपूर्ति में भारत के 'बड़े रोल' के बाद चेता चीन, एक करोड़ डोज मुहैया कराने की पेशकश की

बेन एम्‍बरेक ने कहा, 'हमने बहुत सारी मशहूर परिकल्‍पनाओं (famous theories) के बारे में बात की और यह भी जानने की कोशिश की कि इस बारे में क्‍या किया गया है?' एम्‍बरेक, बीजिंग स्थित WHO ऑफिस में वर्ष 2009 में दो वर्ष रह चुके हैं. पिछले सप्‍ताह होटल में 14 दिन क्‍वारंटाइन रहने के बाद WHO विशेषज्ञों ने कोरोना महामारी की उत्‍पत्ति से जुड़े कई स्‍थानों का दौरा किया, इसमें वह सी-फूड मार्केट भी शामिल था जिसमें लोग सबसे पहले बीमार हुए  थे. 

पाकिस्तान को चीन से कोविड-19 टीके की पहली खेप प्राप्त हुई

बुधवार का वुहान इंस्‍टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (Wuhan Institute of Virology) का दौरा भी उन स्‍थानों में शामिल था क्‍योंकि इस लैब को ही कोरोना महामारी का स्रोत बताया जा गया था. इस लैब के वैज्ञानिक दुनिया की कई खतरनाक बीमारियों पर रिसर्च कर चुके हैं जिसमें कोविड-19 की तरह बेट कोरोना वायरस स्‍ट्रेन शामिल है. ऐसी अटकलें लगाई गई थी कि वायरस दुर्घटनावश वुहान के इसी लैब से लीक हुआ लेकिन इस थ्‍योरी की पुष्टि के लिए कोई पुख्‍ता सबूत नहीं हैं.


हर्ड इम्युनिटी की ओर बढ़ रही है दिल्ली

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)