अमेरिका : घर में मिला भारतीय दंपति का शव, बालकनी में रो रही थी बेटी

Indian Couple Found Dead in US: एक भारतीय दंपति अमेरिका में अपने घर में मृत पाया गया. पड़ोसियों ने उनकी चार साल की बेटी को बालकनी में अकेले रोते हुए देखा, जिसके बाद दंपति की मौत होने का पता लगा.

अमेरिका : घर में मिला भारतीय दंपति का शव, बालकनी में रो रही थी बेटी

Indian Couple Found Dead in US: शवों को भारत पहुंचने में कम से आठ से 10 दिन का वक्त लगेगा (File Photo)

मुंबई:

Indian Couple Found Dead in US: एक भारतीय दंपति अमेरिका में अपने घर में मृत पाया गया. पड़ोसियों ने उनकी चार साल की बेटी को बालकनी में अकेले रोते हुए देखा, जिसके बाद दंपति की मौत होने का पता लगा. परिवार के सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. अमेरिका में कुछ मीडिया रिपोर्ट में बताया गया कि ऐसा लग रहा है कि नॉर्थ अर्लिंगटन में दंपति के घर पर उन पर चाकू से वार किए गए. एक अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसा प्रतीत होता है कि पति ने अपनी पत्नी के पेट में चाकू से वार किए. बालाजी भारत रुद्रवार (Bharat Rudrawar) और उसकी पत्नी आरती बालाजी रुद्रवार (Arti Balaji Rudrawar) के शव न्यूजर्सी में नॉर्थ आर्लिंगटन के रिवरव्यू गार्डन्स परिसर में उनके 21 गार्डन टेरेस अपार्टमेंट में मिले. 

Read Also: 'भारत में जो कुछ हो रहा है, उसपर US ने चुप्पी साध रखी है'- लोकतंत्र पर बोले राहुल गांधी

बालाजी के पिता भारत रुद्रवार ने ‘पीटीआई-भाषा' को बताया, ‘‘पड़ोसियों ने मेरी पोती को बालकनी में रोते हुए देखा और स्थानीय पुलिस को सूचना दी जो घर में घुसी और उसके बाद बुधवार को शव पाए गए.''कुछ स्थानीय अमेरिकी अखबारों में देश के अभियोजन कार्यालय से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के हवाले से बताया गया है कि अधिकारी अपार्टमेंट में किसी तरह घुसे और दंपति को मृत पाया. रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘जांचकर्ता चिकित्सकों की रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन उन्होंने दोनों व्यक्तियों के शरीर पर चाकू से वार होने की पुष्टि की."

रुद्रवार ने कहा, ‘‘स्थानीय पुलिस ने बृहस्पतिवार को मुझे इस घटना की जानकारी दी. मौत की वजह का अभी पता नहीं चल पाया है। अमेरिकी पुलिस ने बताया कि वे पोस्टमार्टम रिपोर्ट साझा करेंगे.'' उन्होंने कहा, ‘‘मेरी बहू सात माह की गर्भवती थी. हम उनके घर गए थे और फिर से अमेरिका जाने की योजना बना रहे थे. मुझे मौत के पीछे की वजह नहीं पता है. वे खुश थे और उनके पड़ोसी भी अच्छे थे.'' उन्होंने कहा, ‘‘अमेरिकी अधिकारियों ने मुझे बताया कि आवश्यक औपचारिकताओं के बाद शवों को भारत पहुंचने में कम से आठ से 10 दिन का वक्त लगेगा.''


Read Also: साल 2020 में अमेरिका में मौत का तीसरा सबसे बड़ा कारण बना कोविड-19

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


रुद्रवार ने कहा, ‘‘मेरी पोती अब मेरे बेटे के एक दोस्त के पास है. उसके स्थानीय भारतीय समुदाय में कई दोस्त थे.'' न्यूजर्सी में भारतीय लोगों की आबादी 60 प्रतिशत से अधिक है. महाराष्ट्र में बीड जिले के अंबाजोगई के आईटी पेशेवर बालाजी रुद्रवार अगस्त 2015 में अपनी पत्नी के साथ अमेरिका गये थे. उनकी दिसंबर 2014 में शादी हुई थी. उनके पिता एक कारोबारी हैं. रुद्रवार ने बताया कि बालाजी अमेरिका में एक प्रतिष्ठित भारतीय इंफोटेक कंपनी में काम कर रहा था जबकि उसकी पत्नी गृहिणी थी.
 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)