टोक्यो ओलंपिक: महिलाओं पर आपत्तिजनक बयान देने के बाद योशिरो मोरी ने दिया इस्तीफा

टोक्यो ओलंपिक (Tokyo 2020) आयोजन समिति के अध्यक्ष योशिरो मोरी (Yoshiro Mori) ने महिलाओं को लेकर की गयी आपत्तिजनक टिप्पणी अपने पद से त्यागपत्र दे दिया है. उन्होंने पिछले दिनों कहा था कि महिलाएं बहुत अधिक बोलती हैं क्योंकि उनमें आपस में प्रतिस्पर्धा की भावना होती है.

टोक्यो ओलंपिक: महिलाओं पर आपत्तिजनक बयान देने के बाद योशिरो मोरी ने दिया इस्तीफा

टोक्यो ओलंपिक: महिलाओं पर आपत्तिजनक बयान देने के बाद योशिरो मोरी ने दिया इस्तीफा

टोक्यो ओलंपिक (Tokyo 2020) आयोजन समिति के अध्यक्ष योशिरो मोरी (Yoshiro Mori) ने महिलाओं को लेकर की गयी आपत्तिजनक टिप्पणी अपने पद से त्यागपत्र दे दिया है. उन्होंने पिछले दिनों कहा था कि महिलाएं बहुत अधिक बोलती हैं क्योंकि उनमें आपस में प्रतिस्पर्धा की भावना होती है. 83 साल के पूर्व प्रधानमंत्री के इस बयान के बाद जापान में लैंगिक समानता को लेकर सार्वजनिक बहस छिड़ी है. उन्होंने आयोजन समिति की कार्यकारी बोर्ड की बैठक में कहा, ‘‘ मैं आज से अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे रहा हूं. उम्मीद है कि बोर्ड उनके उत्तराधिकारी का चयन जल्द ही करेगा.

मोरी ने हालांकि बाद में अपने बयान पर खेद जताया था लेकिन टेलीविजन विशेषज्ञों, प्रायोजकों के दबाव और इसके खिलाफ चले ऑन-लाइन अभियान के बाद उन्होंने यह फैसला किया. शुरुआती रिपोर्टों के मुताबिक मोरी ने 84 साल के साबुरो काबाबुची को अपना उत्तराधिकारी चुना है. काबाबुची पूर्व फुटबॉल खिलाड़ी और जापान में इस खेल के संचालन समिति के अध्यक्ष रहे है. उन्होंने 1964 ओलंपिक में जापान का प्रतिनिधित्व किया है.

दर्शकों के बिना जारी रहेगा ऑस्ट्रेलियन ओपन, मेलबर्न में लॉकडाउन लागू


मोरी ने अपने बयान में कहा- मेरे अनुचित बयान ने काफी उथल-पथल मचाया है. मैं अपनी ईमानदारी से माफी मांगना चाहता हूं, "उन्होंने टोक्यो 2020 के कार्यकारी बोर्ड और परिषद की बैठक में कहा कि उनकी टिप्पणियों पर चर्चा करने के लिए बुलाया गया है. "जुलाई से ओलंपिक आयोजित करना महत्वपूर्ण ह.  यह मामला नहीं होना चाहिए कि मेरी उपस्थिति उसके लिए एक बाधा बन जाए.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जापानी ओलंपिक समिति की बैठक में 83 वर्षीय मोरी ने कहा था कि महिलाएं बहुत अधिक बोलती हैं क्योंकि उनमें आपस में प्रतिस्पर्धा की भावना होती है. पूर्व प्रधानमंत्री मोरी ने इसके बाद अपनी टिप्पणी के लिये माफी मांग ली थी लेकिन त्यागपत्र देने से इन्कार कर दिया था.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)