क्या हटाई गई Moose Wala की सुरक्षा? सवालों के घेरे में आने के बाद भगवंत मान ने दिए जांच के आदेश

सिद्धू मूसे वाला (Sidhu Moose wala News) के पिता बलकौर सिंह (Balkaur Singh) ने CM भगवंत मान को पत्र लिखा है. पत्र में केंद्रीय एजेंसियों केंद्रीय जांच ब्यूरो और राष्ट्रीय जांच एजेंसी से उनके बेटे की हत्या की जांच कराने की मांग की है.

क्या हटाई गई  Moose Wala की सुरक्षा? सवालों के घेरे में आने के बाद भगवंत मान ने दिए जांच के आदेश

हमले के वक्त मूसे वाला के पिता उनकी गाड़ी के पीछे ही थे.

चंडीगढ़:

Sidhu Moose Wala News: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान (Bhagwant Mann) ने पंजाबी गायक सिद्धू मूसे वाला(Sidhu Moose wala Murder) की सुरक्षा कम करने के फैसले की जांच के आदेश दिए हैं. उन्होंने डीजीपी के कल के बयान पर भी सफाई मांगी है. मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया है कि राज्य सरकार जांच में पूरा सहयोग करेगी, किसी भी अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा. वहीं आज सिद्धू मूसे वाला के पिता बलकौर सिंह (Balkaur Singh) ने CM भगवंत मान को पत्र लिखा है और केंद्रीय एजेंसियों केंद्रीय जांच ब्यूरो और राष्ट्रीय जांच एजेंसी से उनके बेटे की हत्या की जांच कराने की मांग की है. 

हमले के वक्त वो अपने बेटे की गाड़ी के पीछे ही थे. 28 वर्षीय गायक के पिता ने बताया, "धमकियों के कारण ही बुलेटप्रूफ गाड़ी खरीदी गई थी. लेकिन रविवार को सिद्धू अपने दो दोस्तों के साथ दूसरी गाड़ी में निकल गया, साथ ही अपने सुरक्षाकर्मियों को भी छोड़ गया. बाद में मैं दोनों गनमैन को लेकर उसके पीछे गया था. लेकिन जब तक मैं मौके पर पहुंचा तब तक अपराधियों ने मेरे बेटे और उसके दो साथी को गोली मार दी थी."

सिद्धू मूसेवाला मर्डर : 'सिंगर साथ नहीं ले गए थे कमांडो और बुलेट प्रूफ कार, गैंगवार का है मामला' - पंजाब पुलिस

बलकौर सिंह ने अपने बेटे की हत्या के बारे में शिकायत दर्ज कराई थी. शिकायत में कहा, "एक SUV और एक सेडान सड़क पर इंतज़ार कर रहे थे. सभी के अंदर चार हथियारबंद लोग थे. मूसेवाला (Sidhu Moose Wala Death) की गाड़ी जैसे ही उनके करीब पहुंची, उन लोगों ने अंधाधुंध गोलियां चलानी शुरू कर दी. कुछ ही मिनटों बाद वे लोग वहां से फरार हो गए. मैंने चिल्लाना शुरू किया और लोग इकट्ठा हो गए. मैं अपने बेटे और उसके दोस्तों को अस्पताल ले गया, जहां उसकी मौत हो गई."

पंजाब पुलिस ने सिद्धू के पिता के बयान पर हत्या और आर्म्स एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज की है. पंजाब सरकार ने हालिया सिक्योरिटी रिव्यू में मूसेवाला को दिए चार सशस्त्र सुरक्षा गार्ड में से दो को वापस ले लिया था. इसकी वजह से अब एक बड़ा राजनीतिक विवाद भी खड़ा हो गया है, विपक्षी दलों ने भगवंत मान सरकार पर वीआईपी लोगों को खतरे में डालने का आरोप लगाया है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: मूसेवाला मर्डर : फायरिंग से सड़क पर बिखरे पड़े थे शीशे, दीवारों में हुए छेद; मुकेश सिंह की रिपोर्ट